जीत छीन लो हार न छीनो।
जीने का अधिकार न छीनो।
अंगार मुझे दो चाहे जितने,
रूठ के मेरा प्यार न छीनो।।

– सुशील सरना

Say something
No votes yet.
Please wait...