मेरे पापा

मेरे पापा
पापा आपका मजबूत कंधा
महज एक कंधा नहीं
एक मजबूत स्तंभ है
मेरे लिए ।
एक मजबूत हौसला
एक मजबूत उम्मीद
एक मजबूत सहारा है
मेरे लिए ।
जिनके दम पर मैं
इस दुनिया से रू-ब-रू हुई ।
जिनका हौसला पाकर
मैंने अपनी कामयाबी हासिल की ।
जिनका सहारा पाकर मैंने
हर बाधाओं से लड़ना सीखा ।
कुछ गलतियां हो जाए तो
बेझिझक हमें डांट देना ,,,
हर सुख-दुख में,,हर पड़ाव
पर हमेशा मेरे साथ रहना ।
मेरे पापा ।
सुप्रिया सिन्हा _____

( इलेक्ट्रॉनिक सिटी , बेंगलुरू)

 

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu