बहुत दिन बीते

अनुभव की बात है

पहली मुलाकात थी

न डर था न भय था

नाग पंचमी की बात थी

कुश्तीप्रतियोगिता में

जीत और हर की

समझौता हुआ

न तुम पटकना मुझे

न हम पटकेंगे तुम्हेंं

रहेगी बराबरी

आज फिर वहीं

नागपंचमी आई है

बहुत दिन बीते

 

अनिल कुमार सोनी

 

 

 

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu