अँखियाँ गहरी गहरी

Home » अँखियाँ गहरी गहरी

अँखियाँ गहरी गहरी

By |2017-08-01T10:13:13+00:00July 31st, 2017|Categories: गीत-ग़ज़ल|0 Comments

 

अधरों पर कुछ राज़ छिपे हैं , मुस्कानें हैं गहरी !
मनवा में विश्वास बसा है , नज़रें ठहरी ठहरी !!

खुशियां चेहरे पर छलके है , बनी सादगी कातिल !
जाने कितने डूब गये हैं , अँखियाँ गहरी गहरी !!

बिखराया है जादू ऐसा , वशीकरण ये कैसा !
तुमसा सुंदर और न होगा , लागे छवि रूपहरी !!

खोये खोये दूर कहीं तुम , दूर हो गये हम भी !
कौन पास नज़रों के आया , वक़्त बना है प्रहरी !!

हम भी अब तक झांक न पाये , दिल के कोने कोने !
मोहपाश में बांध दिया है , बड़ी सयानी ठहरी !!

बिन स्वारथ के नेह लगाया , देह नहीं आकर्षण !
हमें प्यार में नहीं डूबना , हम तो हैं मनलहरी !!

बृज व्यास

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment