नारी जीवन

नारी तेरे जीवन की अजीब कहानी
दो राहों पर चलती दिखाई देती है नारी

कहीं बेंडियां पड़ीं हुयी हैं कहीं होती अति आजादी
कहीं पति से मार खाती दिखाई देती है नारी

कहीं एवरेस्ट चढ़ती हुयी दिखाई देती है नारी
कहीं अबला और असहाय सी दिखती है नारी

कहीं लगता है कितनी र्निज्जल हो गयी है नारी
पायलट इंन्जीयर नेता बनती दिखाई देती है नारी

कभी गर्व होता है देख अपने देश की नारी कभी
शराब सिगरेट का सेवन करती दिखाई देती नारी

कभी सहनशक्ति की चरम सीमा दिखाई देती नारी
कभी चंडिका और चंडी बनती दिखाई देती नारी

नारी तेरे जीवन की यह है अजीब कहानी
दो राहों पर चलती दिखाई देती है नारी

Rating: 1.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu