खौफ

बदलते इस जमाने में, बड़ा बदलाब देखा है l

 

खिले नन्हे से फूलो में, अजब सा खौफ देखा है l
बदलते इस ज़माने में……….
सुरक्षित है नहीं बेटी, घरो से जब निकलती है l
निकलते बक्त आँखों में, अजब सा खौफ देखा है l

 

बदलते इस ज़माने में……………
हंसी से कल तलक जिनकी, ये सारा घर महकता था
हंसी में आज उनकी ही, अजब सा खौफ देखा है l
 बदलते इस ज़माने में…………….
 निगाहे हो गई मिली, ना जाने  क्यू ज़माने की l
उन्ही मासूम चहरो पर, बंधा स्काफ देखा है l l
 बदलते इस ज़माने में,  बड़ा बदलाव देखा है
खिले नन्हे से फूलो में, अजब सा खौफ देखा है l

 

Rating: 1.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu