दोहे

Home » दोहे

नूतन दोहे

By | 2017-11-18T04:05:53+00:00 November 18th, 2017|Categories: दोहे|

दोहे 1 कहते कहते कह लिया, दबी हुई हर बात। समझ सको तो समझ लो, मेरे सब जज्बात।। 2 [...]

दोहे

By | 2017-10-26T10:32:40+00:00 October 26th, 2017|Categories: दोहे|

1.सप्ताह का दिन रविवार,काम होते है हज़ार। घर परिवार में गुज़ार, खुशियां मिले अपार।। 2.मौज सभी मिलकर करो,आया फिर [...]

दोहे

By | 2017-05-17T08:08:24+00:00 May 16th, 2017|Categories: दोहे|

दशरथ सुत चलत भवन, चितवत सब मात। कमल नयन अनुजहि जस,प्रमुदित जलजात।। दिनकर प्रकट करहि अब, मनहि मन विचार। [...]

दोहे

By | 2017-07-29T15:46:05+00:00 December 19th, 2016|Categories: दोहे|Tags: |

हाथों में मशाल लिये , खडे हुये नगर में । सत्य , अहिंसा मार्गो पर , वीर.पुत्र डटे हुये [...]