आलेख

Home » आलेख

कला में संतुलन की कला

By | 2017-12-13T23:51:34+00:00 December 13th, 2017|Categories: आलेख|Tags: , , |

“लाइफ इज़ नॉट फेयर”, ये प्रचलित कहावत है। मैंने पहले कई बार कलाकारों की दयनीय स्थिति पर बात रखी है। आज एक अलग सिरे से विचार रख रहा हूँ।  कलाकार अगर प्रख्यात हो जाये तो जीवन सही है

कवियों का रहस्य वाद ।

By | 2017-12-05T21:55:53+00:00 December 5th, 2017|Categories: आलेख|Tags: , , |

कवि अनंत से इस कदर अपना संबंध जोड देना चाहता है कि कवि और कविता के बीच अंतर मिट जाता है ...और बच जाता है केवल रहस्य वाद ...।

सहायता

By | 2018-01-01T22:24:43+00:00 December 5th, 2017|Categories: आलेख|Tags: |

मानव जाति परस्पर सहयोग से अपनी पहचान और विशिष्टता को स्थापित कर पाई है, अनुभूति की अपार शक्ति का [...]

बचपन

By | 2017-11-14T08:23:29+00:00 November 14th, 2017|Categories: आलेख|

बचपन जीवन का सबसे सुंदर समय होता है , बचपन में न कोई चिंता न फ़िक्र . बस मस्ती [...]