भारतीय राजनीति के चिरंजीव – सरदार पटेल

31 अक्टूबर (जन्मदिन ): भारतीय राजनीति के चिरंजीव : सरदार पटेल ! ■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■ ●प्रफुल्ल कुमार त्रिपाठी एक कहावत है कि खामोशियाँ ही बेहतर हुआ करती हैं , क्योंकि शब्दों से लोग रूठते बहुत…

Continue Reading भारतीय राजनीति के चिरंजीव – सरदार पटेल

चूडी नहीं ये मेरा दिल है………

चूडी है नारी के हाथ का अलंकरण, वृत्ताकार आकृति लिए रंगबिरंगी सोनें चांदी कांच आदि से निर्मित आैर मोती, हांथीदांत से सज्जित, विवाहित महिलाओं के लिए सुहाग का प्रतीक, तो अविवाहित लडकियों के…

Continue Reading चूडी नहीं ये मेरा दिल है………

जंगलों का बचाव

🏃🏃🏃🏃🏃🏃🏃🏃🏃🏃🏃🏃 घने जंगलों में पंक्षीयों का बसेरा था पंक्षीयों की चहचहाने आवाज पेड़ों पर गूजां करती थी सभी पशु मस्ती में इधर उधर घूमा करते थे आपस में सबका एक खुशनुमा माहौल था…

Continue Reading जंगलों का बचाव

बस यूँही ऐसे ही

यूंही ऐसे ही कुछ मैं घर के बालकनी में बैठी हुई हूं। और देख रही हूँ एक चिड़िया और चिड़ा को जो बिजली के खंभे पर अपना घोंसला बना रहे हैं। अभी ही…

Continue Reading बस यूँही ऐसे ही

अनुभव

* कहते हैं एक चिंगारी या तो आग लगाती है या प्रकाश फैलाती है । रोशनी देने वाली चिंगारी का इस्तेमाल अगर ध्यान से किया जाए तो वह जीवन में प्रकाश भर देती…

Continue Reading अनुभव

जीवन में विलेन ढूँढने की आदत

कॉमिक्स लेखन में एक कहावत है, "विलेन भी अपनी नज़रों में हीरो होता है।" खलनायक अपनी छोटी भूल से लेकर जघन्य अपराधों तक का इतनी चपलता से स्पष्टीकरण देता है कि लगे उस…

Continue Reading जीवन में विलेन ढूँढने की आदत

समूह वाली मानसिकता

प्राकृतिक और सामाजिक कारणों से हम सभी की पहचान कुछ समूहों से जुड़ जाती है। उदाहरण के लिए एक इंसान की पहचान कुछ यूँ - महिला, भारतीय, अच्छा कद, गेहुँआ रंग, शहरी (दिल्ली…

Continue Reading समूह वाली मानसिकता

मुस्लिम तलाक

आखिरकार मुस्लिम औरतों को तीन तलाक से मुक्ति मिल गई। लेकिन मन कहीं न कहीं उदास है। हांलाकि इतने सालों बाद न्यायालय से न्याय मिला ऐसा भारत में ही हो सकता है।लेकिन स्त्री…

Continue Reading मुस्लिम तलाक

पन्द्रह अगस्त बचपन के दिन

बचपन भरी यादें 15 अगस्त1947 को हमारा देश आजाद हुआ था इसदिन को स्वतंत्रता दिवस के रूप में आज भी मनाया जाता है। इस दिन अंग्रेजों ने भारत छोड़ा था। तब हम सभी…

Continue Reading पन्द्रह अगस्त बचपन के दिन

जनता तो भगवान बनाती है साहब लेकिन शैतान आप    

जनता तो भगवान बनाती है साहब लेकिन शैतान आप 13 मई 2002 को एक हताश और मजबूर लड़की, डरी सहमी सी देश के प्रधानमंत्री को एक गुमनाम ख़त लिखती है। आखिर देश का…

Continue Reading जनता तो भगवान बनाती है साहब लेकिन शैतान आप    

हिंदी की उपमा

💒💒💒भाषा की उपमा 💒💒💒 एक समय की बात है। हजारों साल पहले भारतवर्ष में दो नारियां थीं एक का नाम हिन्दी व दूसरी का नाम संस्कृत था उस समय इनका चलन था बड़ी…

Continue Reading हिंदी की उपमा

मेरा भारत

हमारा भारत एक समय की बात है जब हमारे भारत का मान सम्मान समस्त संसार में फैला हुआ था दूनिया के समस्त देश भारत में आना चाहते थे भारत में व्यापार करने एवं…

Continue Reading मेरा भारत

भाषा की उपमा

💒💒💒भाषा की उपमा 💒💒💒 एक समय की बात है। हजारों साल पहले भारतवर्ष में दो नारियां थीं एक का नाम हिन्दी व दूसरी का नाम संस्कृत था उस समय इनका चलन था बड़ी…

Continue Reading भाषा की उपमा

सोशल मीडिया

सोशल मीडिया और एक अदृश्य परिपक्व बंधन आज मैं बात करती हूं सोशल मीडिया के सबसे सशक्त और वर्तमान साधन Facebook और WhatsApp की ।आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में जब सब अपने…

Continue Reading सोशल मीडिया

अंधेर नगरी , चौपट राजा

सोन चिड़िया कहलाने वाला मेरा देश भारत समय -समय पर आक्रमणकारियों के द्वारा लूटा जाता । हमारी विवश्ता कि हम अपने को लुटवाते रहे । महमूद गजनवी से लेकर मुगल सल्तनत के नष्ट…

Continue Reading अंधेर नगरी , चौपट राजा