ऊँचाई  (अटल स्मृति)
shree atal bihari 4 hindilekhak.com

ऊँचाई (अटल स्मृति)

अटल स्मृति: श्रधांजलि श्रंखला ऊँचे पहाड़ पर, पेड़ नहीं लगते, पौधे नहीं उगते, न घास ही जमती है। जमती है सिर्फ बर्फ, जो, कफ़न की तरह सफ़ेद और, मौत की तरह ठंडी होती…

Continue Reading

Chakravyuh ka abhimanyu

चरण चूम कर दादा के,वह विजयी स्वर में बोला। काँप उठी सागर की लहरें, सिंहों का गर्जन डोला। चक्रव्यूह में रण करने की, अभिमन्यु ने ठानी थी। नौ माह में सीखी विद्या, अब…

Continue Reading
Close Menu