*चेहरे से उदासी का पहरा हटाओ*

चेहरे से उदासी का पहरा हटाओ मेरे नयनों का लगा मुझ पर ही पहरा आइने में जो देखा स्वयं का चेहरा । मासूम से मुखड़े पर उदासी का पहरा भाता नहीं हमको उदास…

Continue Reading

कोरोना का खौफ (गजल)

सुनी है जो उनके आने की आहट हमने , अपना सारा होशो-हवास गंवाया हमने। पहले भी सजग थे साफ सफाई को लेकर , और अब नया वहम का रोग लगाया हमने। अपनों से…

Continue Reading

वो कौमी एकता कहाँ खो गयी ?

हिन्दू -मुस्लिम ,सिख -ईसाई , आपस में थे कभी भाई-भाई । भाई -भाई से जुदा हो गया अब, यह खाई किसने दरम्यान बनाई ? एक दूजे के दिल में नफरत की आग ,…

Continue Reading

प्रेम गीत

प्रेम गीत एक नायिका अपने प्रेमी को जब नही मना पाती है तो एक गीत के माध्यम से अपनी बात कुछ इस तरह कहती कहती है इस गीत में नायिका अपने प्रेमी से…

Continue Reading

मर्यादा

मर्यादा मे रहो, बंधन मे रहो, स्वभाव से नम्र रहो, संयम मे रहो, घुंघट मे छुपी रहो, लज्जा से भरपुर रहो, नजर झुकाकर रहो, हर दर्द को हंसकर सहो। जहर पीकर मीठा बोलो,…

Continue Reading

नववर्ष आया

है नव वर्ष आया, खुशियां हजार लाया। आओ सब मिल के खुशियां मनायेंगे, चलो मिल के आज गीत गुनगुनायेंगे। पिछले बरष जो ना मिला, वो इस बरष में मिल जायेगा। जो फूल कल…

Continue Reading

हमने तो बस

हमने तो बस इतना जाना जीवन क्या है खोना पाना मैल नहीं है जिसके दिल में अपना है उससे याराना मस्त रहा करते है हम तो बस्ती हो चाहे वीराना पहले सीधे सच्चे…

Continue Reading

मत किया करो

मत किया करो याद किसी को- कोई सुनकर चला नहीं आयेगा।। चल सको तो चलना संभलकर- कोई तुमको उठाने नहीं आयेगा।। दर दर भटकने से क्या फायदा- कोई घर अपने बिठाने नहीं आयेगा।।…

Continue Reading

बेचैन आंखों

बूढ़ी बेचैन आंखों को सब्र नहीं आता जब तक बेटा लौट कर घर नहीं आता आशियाने को अपनों की नजर लगी होगी गैर तो यहां कोई नजर नहीं आता मासूम चिड़िया अपना घर…

Continue Reading

दर्द भरी मुस्कान (गजल)

यूं तो है उसके लबों पर मुस्कान ज़रा-ज़रा , मगर दिल तो है दर्द से पुरजोर भरा -भरा । यह दिखावा इसीलिए भी ज़रूरी जहां के लिए , मरहम नहीं!लोगों के पास नमक…

Continue Reading

ग़ज़ल

प्यासे को' देख आब पिलाते हुए चलो। भूखा को'ई मिले तो' खिलाते हुए चलो। देखो कहीं अकेले' न रह जाओ' भीड़ में। अपने कदम, सभी से' मिलाते हुए चलो। कुछ जिन्दगी में' यार…

Continue Reading

कर लेती है खुद से ही बेवफाई तभी तो वो तेरी कहलायी

कर लेती है खुद से ही बेवफाई तभी तो वो तेरी कहलायी किसी की माँ किसी की बेटी किसी की पत्नी किसी की प्रेमिका बन पायी कर लेती है खुद से ही बेवफाई…

Continue Reading
Close Menu