व्याकरण

Home » व्याकरण

क्रिया

By | 2016-09-19T09:10:44+00:00 July 26th, 2016|Categories: व्याकरण|

क्रिया ( Verb ) जिस शब्द से किसी कार्य का होना अथवा करना समझा जाये अथवा जाहिर हो, उसे [...]

वाक्य

By | 2016-09-19T09:11:25+00:00 July 26th, 2016|Categories: व्याकरण|

वाक्य मनुष्य के विचारों को पूर्णता से प्रकट करनेवाले  पदसमूह को वाक्य कहते हैं। वाक्य में आकांक्षा, योग्यता और काम [...]

सर्वनाम

By | 2016-09-19T09:12:07+00:00 July 26th, 2016|Categories: व्याकरण|

सर्वनाम( Pronoun ) सर्वनाम उस  विकारी शब्द को ‘सर्वनाम’ कहते हैं जो पूर्व में प्रयुक्त संज्ञा के बदले आता है. [...]

वचन

By | 2016-09-19T09:12:30+00:00 July 26th, 2016|Categories: व्याकरण|

Number वचन ( Number) संज्ञा, सर्वनाम,विशेषण तथा क्रिया के संख्याबोधक रूप को वचन कहते हैं. जैसे – काला कुत्ता ( [...]

लिंग

By | 2016-09-19T09:13:16+00:00 July 26th, 2016|Categories: व्याकरण|

( GENDER )  किसी वस्तु या वय्क्ति की जाति बोध कराने वाली संज्ञा के रुप को लिंग कहते हैं।जैसे [...]

कारक

By | 2016-09-19T09:13:38+00:00 July 26th, 2016|Categories: व्याकरण|

कारक ( Case ) संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से उनका (संज्ञा या सर्वनाम का) क्रिया से सम्बन्ध [...]

अव्यय

By | 2016-09-19T09:14:21+00:00 July 26th, 2016|Categories: व्याकरण|

जिस शब्दरूप में लिंग, वचन, पुरुष, कारक इत्यादि के कारण कोई विकार पैदा नहीं होता, उसे अव्यय कहते हैं. [...]

वर्णमाला

By | 2017-04-17T21:54:22+00:00 July 26th, 2016|Categories: व्याकरण|

वर्णमाला ध्वनि ध्वनि शब्दों का आधारस्तंभ है, जिसके बिना शब्द की कल्पना नहीं की जा सकती। अ, आ, क, [...]

अन्वय

By | 2016-09-19T09:15:41+00:00 July 26th, 2016|Categories: व्याकरण|

अन्वय  कर्ता और क्रिया का मेल : –  यदि कर्तृवाच्य वाक्य में कर्त्ता विभक्त्तिरहित है, तो उसकी क्रिया के [...]