लालच का फल

किसी बस्ती में एक शिकारी रहता था | एक बार वह मृगो की खोज करता हुआ घने जंगलों में पहुँच गया | वहां उसने एक हिरण का शिकार किया और जब वह उसे…

Continue Reading

लोभ का परिणाम

दक्षिण के किसी जनपद में महिलारोप्य नामक एक नगर था | उस नगर में थोड़ी दूर पर बरगद का एक विशाल वृक्ष था | उस वृक्ष पर अनेक पक्षी अपना घोंसला बनाकर रहते…

Continue Reading

चोर की पहचान

बहुत समय पहले किसी नगर में धर्मबुद्धि और पापबुद्धि नाम के दो दरिद्र मित्र रहते थे | एक दिन पापबुद्धि ने सोचा, मैं मूर्खता के कारण निर्धन हूँ, इसलिए धर्मबुद्धि को साथ लेकर…

Continue Reading

तीन मछलियां

किसी तालाब में तीन मछलियां रहती थीं | उनके नाम थे अनागत विधाता, प्रत्युत्पन्नमति और यद्भविष्य | एक बार इस तालाब के पास कई मछुआरे आए और बोले-“इस तालाब में तो ढेरों मछलियां…

Continue Reading

कछुए की भूल

  एक तालाब में कंबुग्रीव नाम का एक कछुआ रहता था | उसी तालाब में प्रतिदिन आने वाले दो हंस, जिनका नाम संकट और विकट था, उसके मित्र थे | तीनों में इतना…

Continue Reading

तिलों की अदला-बदली

एक बार की बात है कि वर्षाकाल आरम्भ होने पर अपना चातुर्मास्य करने के उद्देश्य से मैंने किसी गाँव के एक ब्राह्मण से स्थान देने का आग्रह किया था | उसने मेरी प्रार्थना…

Continue Reading

ऊंट की दुर्गति

किसी  जंगल में मदोत्कट नाम का एक शेर रहता था | चीता, कौआ और गीदड़ उसके सेवक थे | एक बार उन्होंने अपने साथियों से छूटा इधर-उधर घूमता हुआ क्रन्थनक नामक ऊंट देखा…

Continue Reading

जुलाहे की चतुराई

बहुत समय पहले किसी नगर में एक जुलाहा और एक बढ़ई रहते थे | उन दोनों में गहरी दोस्ती थी | एक बार वहां देव-मंदिर का यात्रा महोत्सव हुआ, जिसमें देश-विदेश के अनेक…

Continue Reading

ढोल की पोल

एक बार गोमायु नाम का एक गीदड़ भूखा-प्यासा जंगल में घूम रहा था | घूमते-घूमते वह एक युद्ध भूमि में पहुँच गया | वहां दो सेनाओं के बीच युद्ध होकर समाप्त हो गया…

Continue Reading

गीदड़ की तरकीब

एक स्थान पर वट वृक्ष की जड़ में रहने वाले अपने एक प्रिय मित्र सियार के पास गए और उससे कहा-“मित्र, एक दुष्ट काला सांप पेड़ की खोल से निकल कर हमारे बच्चों…

Continue Reading
  • 1
  • 2
Close Menu