प्रेम लीला

चाक से कटकर उतरा सकोरा अभी कच्चा है इसे धूप लगने तो दो एक आंचल में लगी प्रेम की आंच चुभने तो दो इसे पकने तो दो परिपक्व होकर 'कुछ कर गुजरने' को…

Continue Reading

मेरी आत्मा

खुरदरी मटमैली रस्सी के धागों सी रेशेदार टेढ़ी मेढ़ी दबी हुई कुचली हुई भयभीत तोड़ी हुई मरोड़ी हुई छिली हुई रेत से भरी नमक सी नमकीन जिन्दगी की भाड़ में भुनी एक खाकी…

Continue Reading

मतलबी यार

आना आना मतलबी यार // मगर दिल साथ न लाना॥ जब तुम साथ में दिल लाओगे॥ वादा पूरा न कर पाओगे॥ मुझको पडेगा पछताना || मगर दिल साथ न लाना॥ जब साथ में…

Continue Reading

हे राम

हे राम तोहरी नगरी // बदनाम होय रही है // बुरायी घुस गयी है // सच्चाई रो रही है //हे राम वातावरण है दूषित // महत्ता खो रही है // लाचार पड़ा शासन…

Continue Reading

जाते हुए पल

यह जाते हुए पल हैं यह आंसुओं से भीगे हुए कल हैं यह पांव रेत में धंस गये हैं दरारों से भर गये हैं यह दर्द की एक इंतहा है यह रिश्तों को…

Continue Reading

पत्तों का संसार

पत्तों से हरियाली है हरियाली से बहार नहीं फूलों से बहार है बहार से हरियाली नहीं पत्ते झड़े तो पतझड़ है फूल खिले तो बहारों से सजे उपवन हैं फूलों के बिना पत्ते…

Continue Reading

घटती है अजीब घटना नेताओ के महल में

होती है आतिश बाजी रुक रुक के शहर में॥ घटती है अजीब घटना नेताओ के महल में॥ कुछ पड़े जेल के अन्दर कुछ बाहर टहल रहे है॥ कुछ की जुबान मीठी कुछ यूँ…

Continue Reading

सबक

जिन्दगी की भागदौड़ से थक गया हूं जरा समुन्दर किनारे टहल आऊं उसकी उठती गिरती लहरों से खेल आऊं उसके जैसा ही विशाल बनने की कोशिश करूं अपने जिगर के टुकड़े को कंधे…

Continue Reading

ऐतिहासिक नगरी कपिलवस्तु लेखक राहुल सिंह बौद्ध

🌹🌹नमो बुध्दाय 🌹🌹🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃 मुनि कपिल के नाम से कपिलवस्तु है यह ऐतिहासिक नगरी जानी पहचानी । साथियों के राजा शुद्धोधन थे थी कपिलवस्तु उनकी राजधानी ।। 2 शुद्धोधन के पिता सिंह हनु थे…

Continue Reading

यदुनंदन लाल वर्मा लोधी राजपूत की कविताएं

धर्म नफरत हिंसा द्वेष घ्रणा का ढूंढा तो आधार धर्म। जितना खून बहा हैजग में उसका भी आधार धर्म। विश्व विवादों की जा जड़ में देखा तो आधार धर्म। भूख गरीबी औ शोषण…

Continue Reading

चाय का कप

यह कप मेरी ही तरह डिजाइनर प्रिंटेड फैब्रिक सा है यह कुआं है गहरी सिमटी यादों का यह टूटा दर्पण है कुछ जगती उम्मीदों का कुछ सोये ख्वाबों का यह मेरी दुनिया है…

Continue Reading

मोह माया का मायाजाल

बादल के टुकड़ों पे सूरज की जलती देह धरी है दिलों में कितनी दूरी है पर दुनिया को समीपता दिखी है एक अजीब सामंजस्य है दोनों के बीच रिश्तों में अजब संजोग है…

Continue Reading
Close Menu