ऐ भोले पशु ( कविता)

इस इंसानों की दुनिया में तेरा कहाँ ठिकाना है , ठोकरें खाते हुए इधर -उधर जीवन तूने गुज़ारना है । …