Warning: Declaration of QuietSkin::feedback($string) should be compatible with WP_Upgrader_Skin::feedback($string, ...$args) in /var/www/wp-content/plugins/ocean-extra/includes/wizard/classes/QuietSkin.php on line 12

Warning: session_start(): Cannot start session when headers already sent in /var/www/wp-content/plugins/userpro2/includes/class-userpro.php on line 197
कविता Archives - Page 3 of 157 - हिन्दी लेखक डॉट कॉम

दहाड़

पेन्सिल की छाल है शार्पनर सी चाल है बंद गली की दीवार के रंग से मिलती पीठ दिखाती एक पेंटिंग सी चलती एक शेरनी की खाल के प्रिंट की फ्रॉक पहने एक लड़की…

Continue Reading

काल कोठरी

एक ख्याल श्याम रंग दूजा ख्याल श्वेत रंग दोनों दौड़ रहे अन्तर्मन में रंगों की रेखा कहीं नहीं दोनों दौड़ रहे बेरंग एक दिन के उजाले में एक रात के अंधेरे में दोनों…

Continue Reading

सोभावती छंद (हिन्दी भाषा)

सोभावती छंद (हिन्दी भाषा) देवों की भाषा से जन्मी हिन्दी। हिन्दुस्तां के माथे की है बिन्दी।। दोहों, छंदों, चौपाई की माता। मीरा, सूरा के गीतों की दाता।। हिंदुस्तानी साँसों में है छाई। पाटे सारे भेदों की ये खाई।। अंग्रेजी में सारे ऐसे पैठे। हिन्दी से नाता ही तोड़े बैठे।। भावों को भाषा देती लोनाई। भाषा से प्राणों की भी ऊँचाई।। हिन्दी की भू पे आभा फैलाएँ। सारे हिन्दी के गीतों को…

Continue Reading

समझ

बात समझ आई दिल ने कही थी दिल ने सुनी थी मां की दुलार सी एक प्रीत की पुकार समझ आई कहना है जो दिल खोल के कहो मैं सुनूंगी राज तुम्हारे दिल…

Continue Reading

करवा चौथ पर आरती

करवा चौथ पर आरती ओम जय पतिदेव प्रिये स्वामी जय पतिदेव प्रिये। चौथ मात से विनती-2 शत शत वर्ष जिये।। कार्तिक लगते आई, चौथ तिथी प्यारी। करवा चौथ कहाये, सब से ये न्यारी।।…

Continue Reading

सुजान छंद (पर्यावरण)

सुजान छंद (पर्यावरण) पर्यावरण खराब हुआ, यह नहिं संयोग। मानव का खुद का ही है, निर्मित ये रोग।। अंधाधुंध विकास नहीं, आया है रास। शुद्ध हवा, जल का इससे, होय रहा ह्रास।। यंत्र-धूम्र…

Continue Reading

ख्वाहिशें

पानी में डूब रही हैं मेरी ख्वाहिशें मुझे एक सूरज की तरह ऐ आसमां तुम अपनी बाहों में उठा लो एक किश्ती सी तैर रही जल की सतह पर मेरी लहरों सी उठती…

Continue Reading

किला मोहब्बत का

मुझे जीवन में क्या चाहिए बस तेरे प्यार की सौगात चाहिए आसमान में छाये काले बादल तो बस एक चुटकी में छट जायेंगे सीने पे हाथ रख दूं तो दिल में धड़कती धड़कनों…

Continue Reading

अस्तित्व

पतझड़ में पत्ते सारे झड़ गये मैं फिर भी बहारों का इंतजार करता आसमान को चूमता नदी किनारे ठंडी ठंडी हवाओं में सुलगता फूलों को ख्वाबों में ढूंढता पूरी कायनात को अपनी बाहों…

Continue Reading
Close Menu