जिन्दगी की किताब

मेरी तरफ पीठ है तुम्हारी अंजान नहीं जानी पहचानी सी लग रही हो शेल्फ के खानों में लगी किताबों में उलझी हो पलट के देखो तो पढूं तुम्हारे चेहरे की कहानी तुम्हारी किताब…

Continue Reading

बेजुबान

खामोश रहकर भी दिल में भरी मोहब्बत की दास्तां बयां हो सकती है कोई गर हो बेजुबान तो उसकी भी जुबां हो सकती है उसकी जो भी हो भावना आंखों से बोल उठती…

Continue Reading

जिन्दगी की रफ्तार

जिन्दगी की रफ्तार थोड़ी थामो नहीं तो जिन्दगी हाथ से निकल जायेगी बेमकसद मंजिलों की दौड़ को छोड़ो खुद के लिये समय निकालकर खुद की तरफ ही चल पड़ो कोई साथ चलने को…

Continue Reading

जब रक्षक हीं भक्षक बन जाए

तुम्हें चाहिए क्या आजादी , सबपे रोब जमाने की , यदि कोई तुझपे तन जाए , तो क्या बन्दुक चलाने की ? ये शोर शराबा कैसा है ,क्या प्रस्तुति अभिव्यक्ति की ? या…

Continue Reading

जीवन का सार

जहां प्यार है वहां तकरार है यही तो जीवन का सार है मौन रहकर हो जाते हैं बड़े से बड़े मसले हल भाषा का संवाद बंद कर दे खामोशियां अपनाने से दिल से…

Continue Reading

बुद्ध के बोध से

जिन्दगी मुश्किलों भरी आसान लगती है तेरी एक खिलखिलाहट से दिल की कली फूल बन खिलकर महक उठती है तेरी एक मुस्कुराहट से तू कभी परेशान न होना यूं ही सदैव मुस्कुराते रहना…

Continue Reading

अंतहीन

शाम का धुंधलका कोहरे की चादर आंखों से ओझल होते दृश्य और मेरे दिल से दूर भागता मेरा ही साया मैं खुद के अस्तित्व से कभी परिचित थी पर अब हूं अपरिचित अंजान…

Continue Reading

आइए जलते हैं

आइए जलते हैं दीपक की तरह। आइए जलते हैं अगरबत्ती-धूप की तरह। आइए जलते हैं धूप में तपती धरती की तरह। आइए जलते हैं सूरज सरीखे तारों की तरह। आइए जलते हैं अपने…

Continue Reading

आगाज

बचपन में जो थामी हाथ की नाजुक अंगुलियों में एक कलम तो उसने मेरा जीवन बदल दिया आगाज हुआ क ख ग घ से अ आ इ ई से ए बी सी डी…

Continue Reading

एक

काफिला है एक रेगिस्तान है एक रास्ता है एक मंजिल है एक आसमान है एक जमीं है एक फासला है एक नजदीकियां हैं एक लहर है एक भंवर है एक सागर है एक…

Continue Reading

मेरी प्रियतमा

ओ मेरी प्रियतमा,तुझसे मैंने प्यार ही मांगा है कोई दौलत नहीं माँगी है, अगर तू इसे इंकार कर देगी तो भी ये दिल तेरे लिए हाजिर है दुनिया में यूँ तो हसीं बहुत…

Continue Reading

मुझे न आया

चेहरा ढक लिया हाथों से माथा दबा दिया अंगुलियों की पोरों से पलकें भींच ली आंसू रोक आंखों में सांसे सहम गई घुटती धड़कनों के तंग गलियारे में परेशान हूं मैं समय की…

Continue Reading

एक हाथ

कांच की प्याली में उतर आया है आसमान का नीला रंग आसमान की इसमें परछाई भी है और रुसवाई भी है आसमान की एक गाढ़े नीले रंग की मुंडेर भी है एक हाथ…

Continue Reading
Close Menu