हाय रे मजदूर जीवन ( कविता)

हाय रे मजदूर जीवन ,तेरी यही कहानी , भूखा प्यासा तन और आँखों में है पानी । विकास का पहिया चले देश का तेरे दम पर , इस भाग्य विधाता की किसी क्द्र…

Continue Reading हाय रे मजदूर जीवन ( कविता)

घर छोड़ आये

वो घर,वो मकान और वो गांव छोड आये शहर की चमक में वो चाँद छोड आये निकल आये दूर सिक्के कमाने की चाहत में और ऊगता हुआ सोना खेत मे ही छोड आये

Continue Reading घर छोड़ आये

एक मजदूर हूँ

मे एक गरीब मजदूर हूँ, मे भी तो इंसान हूँ भूखा हूँ प्यासा हूँ मे बेसहारा हूँ ग़मो का मरा हूँ मे किसी का बेटा हूँ किसी का बाप हूँ मे किसी का…

Continue Reading एक मजदूर हूँ

कोरोना से जीतेंगे:कुमार किशन कीर्ति

घर में रहकर स्वच्छता को अपनाकर,सामाजिक दूरी का पालन करेंगे हा,हम कोरोना से जीतेंगेअफवाहों से बचकर कोरोना फाइटर्स की सलाह मानकर,समाज और देश को सुरक्षित करेंगे जी हाँ, हम कोरोना से जीतेंगेहम तब…

Continue Reading कोरोना से जीतेंगे:कुमार किशन कीर्ति

जमीन से स्वर्ग तक की यात्रा

बोगनवेलिया के बैंगनी फूल और हरे कांटों के झाड़ नीला आसमान नीली नदी नीले पहाड़ और नीला यह जहां आज इस सुनहरी धरती पर प्रकृति की छटा कर रही जमीन से स्वर्ग तक…

Continue Reading जमीन से स्वर्ग तक की यात्रा

जीवन के आखिरी चरण में

कोमल बिस्तर कोमल ख्वाब कोमल मन कोमल साथ जीवन के यह शुरुआती कोमल पल जीवन भर या जीवन के आखिरी चरण में क्या मिल पायेंगे सकल। मीनल

Continue Reading जीवन के आखिरी चरण में

क्या वह मुझे

मेरा बच्चा और मैं एक ही सिक्के के दो पहलू जैसे हैं मेरा बेटा मेरे आकार और प्रकार का एक छोटा रूप है हमारे नाम अलग हैं लेकिन हम एक ही हैं हमारा…

Continue Reading क्या वह मुझे

जुमलों की जलेबी …!!

देश में चल रही आश्वासनों की आंधी पर पेश है खांटी खड़गपुरिया की चंद लाइनें .... जुमलों की जलेबी ....!! तारकेश कुमार ओझा बकलौली की बूंदी राहत के रसगुल्ले जुमलों की जलेबी आश्वासनों…

Continue Reading जुमलों की जलेबी …!!

भूख की जंग

कोरोना का कहर हम सह भी लें। भूख के जलाल को कैसे सहें।। निकल पड़ें हैं सुनसान राहों पर। खाने की सुध न रहने का ठिकाना।। बीवी बच्चों के साथ निकल पड़ा हूं।…

Continue Reading भूख की जंग

हा, मैं मजदूर हूँ

हा,मैं मजदूर हूँ कड़ी मेहनत करता हूँ, पसीना बहाता हूँ धूप,वर्षा,शीत से लड़ता हूँ हा, मैं मजदूर हूँ मजदूरी करना मेरा काम है मेहनत से रोटी खाना मेरा धर्म है, राष्ट्र निर्माण में…

Continue Reading हा, मैं मजदूर हूँ

एक चोरी की कविता

सुनो दोस्तों...! मैंने एक कविता लिखी है, पर सच बताऊँ...!! लिखी नहीं, चुराई है...॥ भटकते विचारों से... किताबों से, अख़बारों से... रोज़ समाचारों से... थोड़ी-थोड़ी चुराई है...। दोस्तों लिखी नहीं......॥ कुछ यहाँ से,…

Continue Reading एक चोरी की कविता

मजदूर की मंजिल …!!

प्रवासी मजदूरों की त्रासदी पर पेश है खांटी खड़गपुरिया की चंद लाइनें .... मजदूर की मंजिल ....!! तारकेश कुमार ओझा ---------------------------- पत्थर तोड़ कर सड़क बनाता है मजदूर फिर उसी सड़क पर चलते…

Continue Reading मजदूर की मंजिल …!!

मानव और प्रकृति

मानव था तो समझ नही पाया। जब जानवर बना तो समझा।। प्रकृति नें ऐसा थपेड़े दें मारा। खुद जान हलक पे आ गया।। बेजुबाँ को बहुत क़ैद किया था! अब बेजुबाँ आज़ाद हम…

Continue Reading मानव और प्रकृति

सपनों का दर्पण

यह जल है यह मेरे सपनों का दर्पण है जिन चीजों को मैं छू नहीं सकती उन्हें पाने का साधन है आसमान का चांद दूर है मुझसे भी और आसमान के सितारों से…

Continue Reading सपनों का दर्पण

मैं और मेरी तन्हाई

एक दिन मैंने अपनी तन्हाई से पूछा :- "यह जीवन क्या है? प्रेम,हर्ष,सफलता को पाना ही जीवन है, या कुछ और है यह जीवन?" तन्हाई हँसकर बोली :- "सुख-दुःख, हर्ष-विषाद, और प्रेम -विरह…

Continue Reading मैं और मेरी तन्हाई