हर घर दीवाली

मिट्टी के दीपक में तेल में भीगी रुई की बाती से प्रकाश की एक लौ जले प्रेम के स्पर्श की परछाई जो उसपे पड़े तो उसका रोम रोम कुछ और जले फूल के…

Continue Reading

सारे जहाँ की खुशियाँ तेरे भी घर को आये

तू जगमगाये तेरा दीप जगमगाये || सारे जहाँ की खुशियाँ तेरे भी घर को आये || गंगा और यमुना सा निर्मल हो तेरा मन || अम्बर और धरा सा स्वच्छ हो तेरा तन…

Continue Reading

उपहार

हे भगवन धन्यवाद जो मुझे एक भाई दिया नूर बिखेरता फरिश्ता दिया खेलने को खिलौना दिया सपने का उड़न खटोला दिया खुशियों का बिछौना दिया आशाओं का पलना दिया किलकारी मारता शोर मचाता…

Continue Reading

हिंदी

हां हिंदी  बोलती हूं मैं, हां हिंदी सीखती हूं मैं, मेरे रग-रग में शामिल है,हां हिंदी जानती हूं मैं। मेरी पहचान हिंदी है, मेरी अरमान हिंदी है, मुझे प्यारी मेरी हिंदी, हां हिंदी…

Continue Reading

जिन्दगी का सफर

वक्त सिहर गया जिन्दगी का सफर एक पड़ाव पे जो ठहर गया न कोई गिले शिकवे न रोना मुस्कुराना आदमी चला गया जो इस संसार में पीछे छूटा वो सब सहम गया अपनों…

Continue Reading

हमारी दोस्ती

बीज से दरख्त बन गई हमारी दोस्ती जमीं पे सूरज तो कभी चाँद बन चमक गई हमारी दोस्ती गले में जो पड़े बाहों के हार तन की राह मन से मिलने चली हमारी…

Continue Reading

अर्पित

आज मैं खुश हूं बहुत खुश हूं दर्पण भी सहमत बहुत खुश हूं रोई नहीं पिछली कई रातों से सोई नहीं ख्वाबों की बरसातों में लबों पे मुस्कान की कली खिली है धूप…

Continue Reading

मरघट

एक मरघट हैं मेरे अंदर, जहां चिता जलती रहती हैं, मेरे कुछ स्वपनों की, कुछ स्मृतियों की, कुछ विशेष रिश्तों को बांधे रखनें वाली उन कच्ची डोरियों की, और यह निरंतर जलती रहती…

Continue Reading

मेरे प्रेम गीत

रात ढलती रही , शम्मा जलती रही तुम गुनगुनाते रहे , हम मुस्कुराते रहे चाँद ने पहरा, हम पर बराबर दिया जुगनुओं ने आँचल को, रोशन किया घड़ी वक्त की , टिकटिकाती रही…

Continue Reading
Close Menu