गांव के तीन चेहरे

गांव में भीड़ थी। गांव में सन्नाटा पसरा था। गांव में मैं अकेला था। भीड़ का हिस्सा भी नहीं था। मौसम खराब था। मूसलाधार बारिश थी। अपने घर से सुबह निकला था और…

Continue Reading

पहला प्यार

मेरे जीवन की कहानी भी किसी से उम्र भर में हुई एक मुलाकात की तरह ही छोटी सी है। एक छोटे से गांव में नदिया के पार झरनों के सहारे सरसों के खेतों…

Continue Reading

दिखावा

नए घर में  शुनभागमन करना था तो कोई शुभ कार्य भी करना था, इसलिए हमने *मां जगदम्बा माता रानी* के जागरण का आयोजन किया था । सभी रिश्तेदारों सगे-संबंधियों को और मित्रों को…

Continue Reading

सपनों की मंजिल

सुबह के नौ बजे, नवीन अब तक अपने कमरे से बाहर नहीं निकला। उसकी बेचैन, माँ अपने कामों में व्यस्त होने के बावजूद भी, उसका ध्यान उसके कमरे के दरवाजे पर ही था।…

Continue Reading

माथे की मणि

तालियों की गड़गड़ाहट के साथ प्रमिला का नाम पुकारा जा रहा था। आज की गद्य लेखन प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार "श्रीमति प्रमिला को दिया जाता है "। खुशी से उसकी आँखें छलछला गयी।…

Continue Reading

कर्तव्य और ईमानदारी

संपादक महोदय को अपनी प्रेस के लिए गार्ड की आवश्यकता थी,सो उन्होंने विज्ञापन निकलवाया बहुत-से नौजवान संपादक महोदय के समक्ष उपस्थित हुए, लेकिन कोई भी उनकी योग्यता परीक्षा में पास नहीं हो सका…

Continue Reading

विधा:लघुकथा, शीर्षक:बटवारा

सीता चुपचाप आँगन में बैठी थी कुछ सोचती हुई दिखाई पड़ रही थी चेहरें पर उदासी छाई थी आँखें नम हो रही थी पास ही कमरें में उसका पति घनश्याम सोया था वह…

Continue Reading

आपका दिन

"मैं केक नहीं काटूँगी।" उसने यह शब्द कहे तो थे सहज अंदाज में, लेकिन सुनते ही पूरे घर में झिलमिलाती रोशनी ज्यों गतिहीन सी हो गयी। उसका अठारहवाँ जन्मदिन मना रहे परिवारजनों, दोस्तों,…

Continue Reading

एक आँख वाली माँ

अमेरिका से सुरेखा बहिन की चिठी से मालूम पड़ा कि एक भयंकर कार एक्सीडेंट में उनकी एक आँख जाती रही। दिल को गहरा आघात लगा लेकिन पैसों की मजबूरी कहें या पारिवारिक परिस्थितियों…

Continue Reading

पतन

एकाएक उपजी इस इमरजेंसी में श्रीधर करे तो क्या करे। बीच बीच में राहुल से सम्पर्क साधने की कोशिश की जाती पर विफलता ही हाथ लगती।

Continue Reading
Close Menu