नदी के दो किनारे

जीवन संध्या में दोनों एक दूसरे के लिए नदी की धारा थे। जब एक बिस्तर में जिन्दगी की सांसे गिनता है तो दूसरा उसको सम्बल प्रदान करता है, जीवन की आस दिलाता है।…

Continue Reading

खिचाव

समाजसेवी मित्र के साथ एक दिन मुझे वृद्धाश्रम जाना हुआ जैसे ही हमारी कार उस परिसर में जाकर ठहरी, सभी वृद्धाएं एक साथ अपने-अपने कमरों से बाहर आकर , हाथ जोड़कर खड़ी हो…

Continue Reading

मकड़ी, चीँटी और जाला

एक मकड़ी थी. उसने आराम से रहने के लिए एक शानदार जाला बनाने का विचार किया और सोचा की इस जाले मे खूब कीड़ें, मक्खियाँ फसेंगी और मै उसे आहार बनाउंगी और मजे…

Continue Reading

औकात

हरे बबूल पर छाई अमरबेल ने, जब पास सूखे ठूँठ पर लोकी की बेल को नित हाथों बढते देखा तो ,वो अन्दर ही अन्दर उससे ईर्ष्या करने लगी । एक दिन तो उससे रहा…

Continue Reading

कितना पैसा

मधुर खिड़की के पास खड़ा बाहर देख रहा था। बाहर सुंदर-सुंदर मकान दिखाई दे रहे थे और बड़े-बड़े वृक्ष सड़क के दोनों के किनारे खड़े थे । मधुर इतना सब कुछ पा चुका…

Continue Reading

दूध भात

जब दुआरी के कटहल पर कौए ने नीर बनाया तो धनेसरी खूब खुश हुई थी । अब तो बडका समदिया घर के पास ही आ गया । पीरितिया के बापू उहां आने का…

Continue Reading

सोचो जरा

तीन बजने को थे. उसके आने का समय हो रहा था. मगर आज मुझे तसल्ली थी. बेचैनी नहीं. घर के बगल में साढ़े तीन फीट चौड़े गलियारे में मैंने पूरे सड़क तक कोई…

Continue Reading

अरेंज मैरिज

" बधाई हो आप बाप बनने वाले हैं । " सुनकर उसकी खुशी का ठिकाना न रहा उमेश ने उत्साह से पूछा "कब " डॉक्टर मुस्कुराते हुए बोली " बस चार महीने और…

Continue Reading

देश भक्त/पार्टी भक्त

एक पार्टी से दूसरी पार्टी के कार्यालय में फोन पर बातचीत~ -"अरे, जनता बहुत हल्ला मचा रही है ऊँट पुल के निर्माण के लिए अब इसे टालना मुश्किल हो रहा है।" -"हुज़ूर, चुनाव…

Continue Reading

बचपन-बुढ़ापा थे कभी वारिश… अब लावारिश…

‘‘ लोे जी जमकर खुशियां मनाओं कान्हा घर आया है आपके।’’ नर्स की आवाज सुन सब नाचने लगे।कान्हा के स्वागत में थाली बजाकर पड़ोसियों को सूचना दी गई।लड्डू बांटे गए अभी भी थोड़े…

Continue Reading

चाँदी का गिलास

“सर नमस्ते...।” “कौन?” “सर...मैं हूँ...अमित...अमित खन्ना...क्या मैं अन्दर आ सकता हूँ?” किवाड़ खोलकर अन्दर घुसते हुए वह बोला। “आइए...पर...मैंने आपको पहचाना नहीं,” प्रोफेसर गुप्ता ने कहा। “सर...मैं आपका पुराना छात्र हूँ...मैं, मनोज, शीला,…

Continue Reading

नादान

"नमस्कार पण्डित जी, कैसी रही काशी यात्रा अनुज के साथ? सम्मेलन में तो उसनें झंडे गाड़ दिए होंगें? आठ साल के बच्चे के मुख से कंठस्त श्लोक सुनकर लोगों ने क्या कहा?" पण्डित…

Continue Reading
Close Menu