सौतन

अल्मोड़ा का मार्ग बहुत सुन्दर और मनमोहक है। वहाँ के प्राकृतिक सौन्दर्य को निहारते हुए मन अनायास ही कविता करने लगता है क्योंकि वहाँ की प्राकृतिक सुषमा विधाता की बहुत सुन्दर कविता जान…

Continue Reading

पत्थर

“अभी और कितना चलना है?” “अभी तो चढ़ाई शुरू हुई है। अभी तो बहुत है। पूरे चौदह किलोमीटर है। अभी तो केवल आधा किलोमीटर ही चढ़े हैं।....क्या थक गईं?” “हाँ...चलो...कोई बात नहीं... तुम…

Continue Reading

वीज़ा

“हैलो...हाँ बेटा कैसे हो?” “मैं ठीक हूँ माँ...तुम कैसी हो?” “मैं भी ठीक हूँ बेटा...और शिल्पी और चीकू कैसे हैं?” “सब ठीक हैं माँ, तुम्हारी याद आ रही थी।” आवाज़ में उदासी छा…

Continue Reading

मानवता

किसी गाँव में एक दार्शनिक रहता था। वह मानवता पर एक ग्रंथ लिख रहा था। वह रोज़ सुबह उठकर जल्दी तैयार होकर अपने घर से कुछ दूर एक झोंपड़ी में एकाग्रता से ग्रंथ…

Continue Reading

आगे की सोच

एक बुजुर्ग कहीं जा रहे थे । रास्ते में उन्हें एक व्यक्ति मिल गया। वह अपना दुखड़ा सुनाने लगा । अपने साथ गुजरी हुई बातो को लेकर वह दुखी था । बुजुर्ग ने…

Continue Reading

” विरासत “

अब्बाजान के गुजरने के बाद मेरे हिस्से में जो विरासत आयी उसमें पुरानी हवेली के साथ बाबाजान की चंद ट्राफियाँ और मेडल भी थे जिन्हे अब्बुजान हर आने जाने वाले को बड़े शौक…

Continue Reading

राजा

एक समय एक राजा था । जिसके तीन पुत्र थे । वह अभिमानी होने के कारण हर प्रकार के काम को ऊँची श्रेणी के बिल्कुल अयोग्य समझता था । और आलस्य को सच्ची…

Continue Reading

मन काहे  होत अधीर

संत योगराज के पास अनेक शिष्य शिक्ष्या ग्रहण करते थे | उनके द्वारा पढ़ाये गए अधिकतर शिष्य अपने जीवन में सफल थे, क्योंकि वे अपने शिष्यों को पाठ्य पुस्तको के साथ -२ व्यवहारिक…

Continue Reading

उनकी टाँग

सिंहासन बत्तीसी की कहानियाँ सुनीं थीं। टी. वी. पर धारावाहिक भी देखा और अनुमान भी लगाया कि राजा विक्रमादित्य अपने सिंहासन पर बैठे कैसे लगते होंगे? लेकिन मेरी यह कल्पना तब साकार हुई…

Continue Reading

दर्द की पहुँच

"भैया, इनके पेट में असहनीय दर्द हो रहा है, शराब मांग रहे हैं|" "भाभी, पहले कितनी पीते थे, छुड़ा रहे हैं तो थोड़ा दर्द होगा ही|" "आप सही कह रहे हैं...हम नहीं पीने…

Continue Reading

संतुष्टि का भाव

एक दिन अचानक मैं खुशी से भर गई | दरअसल,मुझे पता चला था कि मेरा नाम लिखित परीक्षा के अधर पर एसआई पद के शार्टलिस्ट हो गया है | अब इंटरव्यू की बारी…

Continue Reading

लौट आई मुस्कान

बात वर्ष १९९२ -१९९३ की है | मैं १०-११ वर्षों से घर से दूर रह रही थी | कब हफ्ता, महीना और साल बीत जाता पता ही नहीं चलता | हमारे संयुक्त परिवार…

Continue Reading
Close Menu