उनकी टाँग

सिंहासन बत्तीसी की कहानियाँ सुनीं थीं। टी. वी. पर धारावाहिक भी देखा और अनुमान भी लगाया कि राजा विक्रमादित्य अपने सिंहासन पर बैठे कैसे लगते होंगे? लेकिन मेरी यह कल्पना तब साकार हुई…

Continue Reading

दर्द की पहुँच

"भैया, इनके पेट में असहनीय दर्द हो रहा है, शराब मांग रहे हैं|" "भाभी, पहले कितनी पीते थे, छुड़ा रहे हैं तो थोड़ा दर्द होगा ही|" "आप सही कह रहे हैं...हम नहीं पीने…

Continue Reading

संतुष्टि का भाव

एक दिन अचानक मैं खुशी से भर गई | दरअसल,मुझे पता चला था कि मेरा नाम लिखित परीक्षा के अधर पर एसआई पद के शार्टलिस्ट हो गया है | अब इंटरव्यू की बारी…

Continue Reading

लौट आई मुस्कान

बात वर्ष १९९२ -१९९३ की है | मैं १०-११ वर्षों से घर से दूर रह रही थी | कब हफ्ता, महीना और साल बीत जाता पता ही नहीं चलता | हमारे संयुक्त परिवार…

Continue Reading

आतंकवादी का धर्म

वो चारों यूं तो अलग-अलग सम्प्रदायों से थे, लेकिन उन्हें सिखाया गया था कि उनका धर्म लोगों को मारना-काटना ही है| आज भी वो चारों एक साथ इसी इरादे से निकले|   मार-काट…

Continue Reading

मेहनत की घड़ी का बुरा वक्त

चार लोग अलग-अलग देशों की यात्रा कर पानी के जहाज़ से अपने घर लौट रहे थे| पहले ने कुछ दिखाते हुए कहा, "यह एक विशेष प्रकार की बन्दूक ली है, इसका निशाना कभी…

Continue Reading

खिलौना

शाम को हवलदार राम सिंह अनमने भाव से घर पर पहुंचा, सर्किल इंस्पेक्टर साहब ने ड्यूटी पर आधा घंटा देरी से आने पर बहुत डांट पिलाई थी, जिसे वो चुपचाप सह गया| "कल…

Continue Reading

पंचायत

"अरी कलमुँही यह क्या कर दिया तुमने? किस पाप की सज़ा दी है। " "भाग्यवान क्यों डाँट रही हो सुधा को? क्या हुआ है ऐसा!" "सुधा के बापू हम तो कहीं मुँह दिखाने…

Continue Reading

आज का भरत

बड़े भाई विकेश को नौकरी के सिलसिले में दो माह के लिए दूरस्थ शहर में जाना पड़ गया | उसने छोटे भाई सोमेश को अपने पास बुलाया और समझाया, 'देख, पिताजी की ठीक से देखभाल करना |…

Continue Reading

अकेली मोमबत्ती

दीपावली की रात थी | प्रांजल छत पर बैठा जगमगाते बल्ब के झालरों और सैकड़ों मोमबत्तियों को जलते देख रहा था | उसके घर को छोड़कर लगभग सभी मकानों का यही हाल था |सैकड़ों…

Continue Reading

माँ जैसी

छः महीने की लम्बी बीमारी के बाद संधान नहीं रही इसलिए पिछले कुछ दिनों से सरला जी की बहू दुखी और परेशान रहती थी | उसका दुःख बाटने को सरला जी अक्सर नाश्ता-खाना…

Continue Reading

काम के प्रति ईमानदार रहो

रात में एक चोर घर में घुसता है। कमरे का दरवाजा खोला तो बरामदे पर एक बूढ़ी औरत सो रही थी। खटपट से उसकी आंख खुल गई। चोर ने घबरा कर देखा तो वह लेटे लेटे बोली ” बेटा, तुम देखने से किसी अच्छे घर के लगते हो, लगता है किसी परेशानी से मजबूर होकर इस रास्ते पर लग गए हो। चलो कोई बात नहीं। अलमारी के तीसरे बक्से में एक तिजोरी है । (more…)

Continue Reading

कौआ कौन है

एक दिन एक कौवे के बच्चे ने कौवे से कहा

कि हमने लगभग हर चार पैर वाले

जीव का माँस खाया है,

मगर आजतक दो पैर पर चलने वाले

जीव का माँस नहीं खाया है.. (more…)

Continue Reading
Close Menu