विदेश में पढ़ाई

विदेश में पढ़ाई ************** माँ हर पल- हर क्षण तेरी कमी खलती है। जीवन की गाड़ी रोते-रोते चलती है। ज़िद के पंखों सा पसर गया था। चमक-दमक ने असर किया था। ना मैंने…

Continue Reading

आशिफा

ना धर्म लाओ, न जात लाओ, न बीच में सरकार लाओ, जो दोषी है जघन्य इस जघन्य अपराध के, उन्हें सरेआम लाओ ; न्याय है न्यायालय में तो, "आसिफा" के क़ातिलों का, मौत…

Continue Reading

जादू की झप्पी

#जादूकीझप्पी/जादुई /स्पर्श चिकित्सा------- अपने किसी को गले लगाए, कितने दिन हो गए याद करिए। एक पिक्चर में था `जादू की झप्पी'। शायद ये सही है,जब कोई परेशानी में हो, कुछ कहने के लिए…

Continue Reading

‘भ्रष्टाचार’ भारत के विकास में सबसे बड़ी बाधा के रूप में !!!

यह कैसा दौर है नया ,सत्य स्वयं ही राह से भटक गया इंसान इंसानियत को छोड़ कर भ्रष्टाचार रूपी जहर में लिपट गया |आज के दौर में भ्रष्टाचार भारत के विकास में सबसे…

Continue Reading

काश्मीर की नारी

अचरज है कि भूल गई तुम या तुमको यह ज्ञान नहीं, अक्टूबर'४७ के बर्बतम महीने का तुमको क्या भान नहीं, जम्मू व कश्मीर पर महाराजा हरि सिंह का था स्वतंत्र प्रभार, जब कश्मीर…

Continue Reading

क्या कन्या होकर जुर्म किया है??

जाने क्यों मेरा परिवार, मुझे मारना चाहता है क्यों निर्दोष की हत्या पर, दिल इनका हर्ष मनाता है पहले भी मेरी बहनें, पेट में माँ के मारी गयी हमको बचाते माँ बेचारी, कदम-कदम…

Continue Reading

विज्ञान बनाम आध्यात्म

आध्यात्म बनाम विज्ञान Part 1:- आध्यात्म का जन्म पूरब सभ्यता में हुआ और विज्ञान का पश्चिम शभ्यता में! देखा जाये तो मनुष्य को दोनों विधाओं की आवश्यकता रही है! परन्तु जैसे जैसे समय…

Continue Reading

कोई नहीं मसीहा तुम्हारा

कोई नहीं मसीहा तुम्हारा , न कोई है रक्षक , सारा जहाँ बना है दुश्मन, हर कोई है भक्षक | गली -गली और नुक्कड़ -नुक्कड़ होतीं तुम अपमानित , कहते देवी पर लगती…

Continue Reading

कमरे के भीतर

सीलन से टपकती छत के बीचोंबीच चरमराती हुई आवाज़ एक पुराने पँखे की थी दरवाज़े और खिड़कियाँ दोनों बन्द थे और खिड़कियों के खांचों पर चढ़ाई गई थी काली पन्नी ताकि अंदर चल…

Continue Reading

आध्यात्मिकता का ढोंग

भारत की चेतना सदैव आध्यत्मिक रही है ।मैं स्वयं भी बहुत आध्यात्मिक हूँ पर उस अर्थ में नहीं जिस अर्थ में आध्यात्मिकता का सामान्य अर्थ लिया जाता है ।कर्मकांड ,बाबाओं ,गुरुओं के पास…

Continue Reading

आदत से मजबूर

सभी को शायद ये लगे कि समाज बुरा और बुरा होता जा रहा है पर यकीन मानिये बस ये बात तो बेवजह मान लेने वाली है, मैंने एक दुनियाँ देखी है शायद आपने…

Continue Reading
  • 1
  • 2
Close Menu