अब दिल्ली में डर लगता है

किताबों में से एक अजीब सी खुशबू आती है। नई-नई किताबों की यह सुगंध बहुत भाती है मुझको। इस ईबुक वाले समय में उस एहसास के स्वाद को चखने का बहुत कम ही…

Continue Reading अब दिल्ली में डर लगता है

शोरूम में जननायक

अनूप मणि त्रिपाठी का पहला व्यंग्य संग्रह “शोरूम में जननायक” में लगभग तीन दर्जन व्यंग्य है. व्यंग्य संग्रह में भूमिका नहीं है, सुधी पाठक इससे अंदाज लगा सकते है कि नव लेखन के सामने…

Continue Reading शोरूम में जननायक

इतिहासबोध से वर्तमान विसंगतियों पर प्रहार : सागर मंथन चालू है

व्यंग्य की दुनिया में चार पीढ़ी एक साथ सक्रिय है. यह व्यंग्य क्षेत्र के लिए शुभ संकेत है. मैं व्यक्तिगत तौर पर इस बात का खंडन करता हूँ कि व्यंग्य के लिए यह…

Continue Reading इतिहासबोध से वर्तमान विसंगतियों पर प्रहार : सागर मंथन चालू है

कुण्डलिया संग्रह :”शिष्टाचारी देश में “

कुण्डलिया संग्रह – शिष्टाचारी देश में रचनाकार – श्री तोताराम शर्मा उर्फ़ तोताराम ‘सरस’ प्रकाशक – संवेदना प्रकाशन , गली-2, चंद्रविहार कॉलोनी (नगला डालचंद), क्वार्सी बायपास, अलीगढ़ २०२००१(उ.प्र.) फोन : 9258779744,9358218907. मूल्य :…

Continue Reading कुण्डलिया संग्रह :”शिष्टाचारी देश में “