संस्मरण

Home » संस्मरण

आध्यात्मिकता का ढोंग

By | 2017-04-24T22:25:25+00:00 April 24th, 2017|Categories: संस्मरण, सामाजिक-राजनीतिक मुद्दे|

भारत की चेतना सदैव आध्यत्मिक रही है ।मैं स्वयं भी बहुत आध्यात्मिक हूँ पर उस अर्थ में नहीं जिस [...]

चमत्कार

By | 2017-04-19T22:51:33+00:00 April 19th, 2017|Categories: संस्मरण|

जीवन में सुख दुःख आते जाते रहते हैं लेकिन इंसानी स्वभाव है कि हम दोनों को एक ही भाव [...]

देखो इन्हें ये है ओस की बूंदे

By | 2017-02-20T12:37:06+00:00 February 19th, 2017|Categories: संस्मरण|Tags: |

#पिंगलवाड़ा (अमृतसर) पिंगल का अर्थ है--(#अनाथ_अपाहिज_बुद्धिहीन) वाड़ा............(#बच्चे) साईकल यात्रा के 7वें दिन,जब हम पिंगलवाड़ा में पहोंचे थे... अंदर का [...]

कोशिश

By | 2017-07-09T10:44:15+00:00 November 1st, 2016|Categories: संस्मरण|Tags: |

मेरी डायरी से "लेहरों से डरकर नोका पार नही होती और कोशिश करने वालो की कभी हार नही होती" [...]