वो आँखे

सरपट भागती ट्रैन के साथ और हर बदलते नजारे के साथ बदल जाते है उसके चेहरे की भावनाएं,उसकी वो हँसी, वो नजाकत भरी नजरें पल पल बदलते नजारे के साथ बदलती उसकी हर…

Continue Reading

जब यादगार बन जाए अनचाही यात्राएं ….!!

जब यादगार बन जाए अनचाही यात्राएं ....!! तारकेश कुमार ओझा जीवन के खेल वाकई निराले होते हैं। कई बार ऐसा होता है कि ना - ना करते आप वहां पहुंच जाते हैं जहां…

Continue Reading

भूख – प्यास की क्लास ….!!

भूख - प्यास की क्लास ....!! तारकेश कुमार ओझा क्या होता है जब हीन भावना से ग्रस्त और प्रतिकूल परिस्थितियों से पस्त कोई दीन - हीन ऐसा किशोर कॉलेज परिसर में दाखिल हो…

Continue Reading

भूख – प्यास की क्लास ….!!

भूख - प्यास की क्लास ....!! तारकेश कुमार ओझा क्या होता है जब हीन भावना से ग्रस्त और प्रतिकूल परिस्थितियों से पस्त कोई दीन - हीन ऐसा किशोर कॉलेज परिसर में दाखिल हो…

Continue Reading

गांव की बारात (पहाड़ी लेख )

गांव की बारात का यह शब्द जब भी हमारे कानों में गूंज पड़ता है मानो तब-तब गांव में होने वाली शादियों कि एक स्मृति हमारे यादों में या यह कहें इन गांव में…

Continue Reading

पहाड़ का अस्तित्व- ( पहाड़ की नारी)

नारी के बिना पहाड़ अधूरा - या यहां यह कहना गलत नहीं होगा कि पहाड़ का अस्तित्व ही नारी के कारण टिका हुआ है यदि पहाड़ों से कुछ हद तक पलायन रुका है…

Continue Reading

यूकेलिप्टस, कौवे और मैं

हर रात जैसे तैसे करवटें ले लेकर गुजरती। हर रात सुबह का इंतजार, हर सुबह जेठ की भरी दुपहरी का इंतजार, हर दोपहर शाम होने का इंतजार, हर शाम रात होने का इंतजार…

Continue Reading

वह एक लालटेन

अब तो गांव-गांव मैं बिजली हूआ करती है यदि कभी बिजली चली भी जाती है तो हम लोग अपनों घरों को उजाला करने के लिए मोमबत्ती या चार्जेबल बैटरी का उपयोग करते हैं…

Continue Reading

हावड़ा – मेदिनीपुर की लास्ट लोकल ….!!

कई तरह की सही - गलत धारणाएं हो सकती है। जिनमें एक धारणा यह भी है कि देर रात या मुंह अंधेरे महानगर से उपनगरों के बीच चलने वाली लोकल ट्रेनें अमूमन खाली ही दौड़ती होंगी।

Continue Reading

मेरी बुआ ही मेरी माँ

दुनियाँ की किसी भी माँ का सम्पूर्ण जीवन तो अपने परिवार, पति और बच्चों के लिये ही समर्पित रहता है। माँ अगर त्याग न करे तो उसके बच्चे का जीवन संवर ही नहीं…

Continue Reading

नालायक बेटा

अब न माँ न माँ से जुड़े रिश्तें.... कोई मिलते भी है तो अजनबी की तरह। अब दिल मे कोई ख्वाहिश भी नही रही, माँ बहुत कुछ अपने साथ ले गयी....बहुत कुछ नही सबकुछ।

Continue Reading
Close Menu