ऐतिहासिक नगरी कपिलवस्तु लेखक राहुल सिंह बौद्ध

🌹🌹नमो बुध्दाय 🌹🌹🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃 मुनि कपिल के नाम से कपिलवस्तु है यह ऐतिहासिक नगरी जानी पहचानी । साथियों के राजा शुद्धोधन थे थी कपिलवस्तु उनकी राजधानी ।। 2 शुद्धोधन के पिता सिंह हनु थे…

Continue Reading

मेरे अल्फाज

चाँद से पूछो कभी क्यों चकोर उसकी याद में आँसू बहाता है?अगर इश्क इबादत है खुदा का,तो क्यों जमाना इश्क करनेवालों को तड़पाता हैं सोचा ना था उनसे मुलाकात होगी यूँ ही किसी…

Continue Reading

अडिग अहसास

तुम कोमल तो मैं कोमल तुम कठोर तो मैं कठोर तुम कोई दर्पण नहीं जिसमें मैं अपना रूप साफ साफ देख सकूं और न ही मैं कोई शीशा हूं जिसमें तुम अपनी छवि…

Continue Reading

मोह माया का मायाजाल

बादल के टुकड़ों पे सूरज की जलती देह धरी है दिलों में कितनी दूरी है पर दुनिया को समीपता दिखी है एक अजीब सामंजस्य है दोनों के बीच रिश्तों में अजब संजोग है…

Continue Reading

चाय का कप

यह कप मेरी ही तरह डिजाइनर प्रिंटेड फैब्रिक सा है यह कुआं है गहरी सिमटी यादों का यह टूटा दर्पण है कुछ जगती उम्मीदों का कुछ सोये ख्वाबों का यह मेरी दुनिया है…

Continue Reading

यकीन नहीं होता

यकीन नहीं होता मैं लेखक कैसे बना हूँ?बनना चाहता था अधिकारी, पर कलम कैसे पकड़ लिया हूँ शायद,यही लिखा था और नियति को यही मंजूर था, वरना प्रशासन और राजनीतिक में रुचि रखने…

Continue Reading

कुछ बात तो बन जायेगी

दो दिल जहा मिलेगे॥ बरसात तो हो जायेगी॥ पहली ही मुलाक़ात में॥ कुछ बात तो बन जायेगी॥ सताएगी याद प्रिये की ॥ तडपाये गी तन्हाईया॥ चेहरा दिखाई देगा॥ मन भाएगी परछाईया॥ फ़िर भी…

Continue Reading

मोहब्बत के तार हिलाते

तन से तन मिले मन से मन मिले मेरा रूप, मेरा रंग मेरे भाव, मेरे राग मेरी विशालता, मेरी सरलता मेरी समीपता, मेरी सहजता दूरियों के धरातल पे निकटता के पदचिन्ह मिले जहां…

Continue Reading

मेरे अल्फाज

हसीनों की दुनिया में उस निगाहों का इंतजार है, बना दे जो इस शायर को दीवाना ऐसी माशूका की तलाश है, मिलेगी मुझे किसी ना किसी मोड़ पर, ऐसा मेरा दिल मुझसे कहता…

Continue Reading

आओ शिक्षा की ज्योति जलाए

आओ शिक्षा की ज्योति जलाए भारत को साक्षर बनाए,घर-घर शिक्षा की पहुँच हो ऐसा एक हमारा देश हो,शिक्षा की ज्योति से अंधकार भाग जाएगा फिर ना,कोई निरक्षर रह पाएगा निरक्षरता ही सारी समस्याओं…

Continue Reading
Close Menu