लालच का फल

किसी बस्ती में एक शिकारी रहता था | एक बार वह मृगो की खोज करता हुआ घने जंगलों में पहुँच गया | वहां उसने एक हिरण का शिकार किया और जब वह उसे…

Continue Reading

लोभ का परिणाम

दक्षिण के किसी जनपद में महिलारोप्य नामक एक नगर था | उस नगर में थोड़ी दूर पर बरगद का एक विशाल वृक्ष था | उस वृक्ष पर अनेक पक्षी अपना घोंसला बनाकर रहते…

Continue Reading

चोर की पहचान

बहुत समय पहले किसी नगर में धर्मबुद्धि और पापबुद्धि नाम के दो दरिद्र मित्र रहते थे | एक दिन पापबुद्धि ने सोचा, मैं मूर्खता के कारण निर्धन हूँ, इसलिए धर्मबुद्धि को साथ लेकर…

Continue Reading

तीन मछलियां

किसी तालाब में तीन मछलियां रहती थीं | उनके नाम थे अनागत विधाता, प्रत्युत्पन्नमति और यद्भविष्य | एक बार इस तालाब के पास कई मछुआरे आए और बोले-“इस तालाब में तो ढेरों मछलियां…

Continue Reading

कछुए की भूल

  एक तालाब में कंबुग्रीव नाम का एक कछुआ रहता था | उसी तालाब में प्रतिदिन आने वाले दो हंस, जिनका नाम संकट और विकट था, उसके मित्र थे | तीनों में इतना…

Continue Reading

तिलों की अदला-बदली

एक बार की बात है कि वर्षाकाल आरम्भ होने पर अपना चातुर्मास्य करने के उद्देश्य से मैंने किसी गाँव के एक ब्राह्मण से स्थान देने का आग्रह किया था | उसने मेरी प्रार्थना…

Continue Reading

लफ्जों के मानी

मैं अश्कों की रवानी लिख रहा हूँ, गजल में इक कहानी लिख रहा हूँ | लुगत में जिनकी बावत कुछ नहीं है, मैं उन लफ्जों के मानी लिख रहा हूँ | समंदर अपने…

Continue Reading

दर्द की पहुँच

"भैया, इनके पेट में असहनीय दर्द हो रहा है, शराब मांग रहे हैं|" "भाभी, पहले कितनी पीते थे, छुड़ा रहे हैं तो थोड़ा दर्द होगा ही|" "आप सही कह रहे हैं...हम नहीं पीने…

Continue Reading

संतुष्टि का भाव

एक दिन अचानक मैं खुशी से भर गई | दरअसल,मुझे पता चला था कि मेरा नाम लिखित परीक्षा के अधर पर एसआई पद के शार्टलिस्ट हो गया है | अब इंटरव्यू की बारी…

Continue Reading

लौट आई मुस्कान

बात वर्ष १९९२ -१९९३ की है | मैं १०-११ वर्षों से घर से दूर रह रही थी | कब हफ्ता, महीना और साल बीत जाता पता ही नहीं चलता | हमारे संयुक्त परिवार…

Continue Reading

सिकुड़ा हुआ समय

पृथ्वी की धुरी के इशारों पर यूं तो नाचता है समय... विस्मृत क्षण हो गए धूमिल कई दिनों से गुम था समय... कितने ही वर्षों से ढूंढता पूछता था जिससे वो कहता “मेरे…

Continue Reading

आतंकवादी का धर्म

वो चारों यूं तो अलग-अलग सम्प्रदायों से थे, लेकिन उन्हें सिखाया गया था कि उनका धर्म लोगों को मारना-काटना ही है| आज भी वो चारों एक साथ इसी इरादे से निकले|   मार-काट…

Continue Reading
Close Menu