प्रेम बवंडर

हम जानी दिल हमरै टूटा॥ ई प्रेम बवंडर सब का लूटा॥ केहू केहू कै घर बसाइस ॥ केहूँ केहू का लैके डूबा॥ ई प्रेम बवंडर सब का लूटा॥ केहू केहू कय बाग़ सजाइस…

Continue Reading

रूह के पंछी

आस्था की माला के मोती टूट गये गजरे की धार से चमेली के फूल झर गये विश्वास की सच्ची डोर से जो बंधे थे दिल के पावन रिश्ते वो टूट गये कितना बांधा…

Continue Reading

पिता

पिता के बारे में क्या लिखूँ?बस इतना ही जानता हूँ मैं ईश्वर की पूजा नहीं करूँ मैं,लेकिन पिता की ही पूजा करता हूँ मैं कुटुम्बों के पालन करने में पिता जो त्याग करते…

Continue Reading

मेरी शायरी

1 आधी हकीकत,आधा फसाना मेरा इश्क कैसा है?जरा खुल कर बताना अपने दिल के कमरे में मुझको ठहराना,मेरा इश्क है वर्षों-पुराना 2हाय रे जमाना तेरी हद हो गई,मैंने दिल से जिसे चाहा'वो'किसी और…

Continue Reading

हे गज हे गजानन

हे गज हे गजानन चरण वंदना आज सुबह सुबह दोनों हाथ जोड़कर एक प्रार्थना है मेरी यह जो लोग पूजते हैं भगवान को और अनदेखा करते हैं अपने मां बाप और परिवार को…

Continue Reading

जिस्म और रूह का रिश्ता

नीली स्याही के समंदर में आसमां के बादलों सी उतरती मेरी काले धब्बों की परछाई यह दुनिया का मायाजाल मुझे जकड़ ले इससे पहले मैं इससे पीछा छुड़ाकर कहीं भाग जाना चाहती हूं…

Continue Reading

हा, समुद्र हूँ मैं

हा, समुद्र हूँ मैं, मेरा जल खारा जरूर है,मैं किसी का प्यास नहीं बुझा सकता हूँ, फिर भी नदियों का अंतिम मंजिल हूँ मैं  हा, समुद्र हूँ मैं मुझमे निवास करते हैं कई…

Continue Reading

वफा की हद

वफा तलाशुं जो इंसान में नहीं मिलती यह संसार है बिना सिंदूर भरी मांग एक विधवा सा न पैरों में पायल न हाथों में चूड़ियों की खनक यहां मिलती यह इश्क ओ वफा…

Continue Reading

हिंदी राष्ट्रभाषा है

हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है,इस देश की मान है, अभिमान है हिंदी से ही हम भारतीयों की अपनी पहचान है हिंदी में हम,और हम में हिंदी है हिंदी साहित्य के रूप में हमारी ज्ञान…

Continue Reading

ईश्वर की अंश होती हैं माँ

ईश्वर की अंश होती हैं माँ, बच्चों के लिए कितना कष्ट सहती हैं माँ, उसके नयन खुद भीग जाते हैं जब बच्चों को रोते देखती हैं माँ मुझे नहीं पता ईश्वर कैसे होते…

Continue Reading
Close Menu