Anjna Yogi 2018-01-14T15:26:11+00:00

Anjna Yogi

Posts

  • अवतार लो हे विराट

    इस धरती पर हे कर्मयोगी,अब तुम्हारी जरूरत है गीता के ज्ञान को जानकर भी मनुष्य... Read More »
  • चांद का दर्द

    ओह चंदा कितना दर्द आज तूने सहा आज तो पूरे चांद की रात थी पर आज... Read More »
  • औरत

    ओहदा बदलते ही औरत के बदल जाते है स्वरूप मां——-सास बेटी——बहु बहन—–ननद भाभी—-जेठानी / देवरानी... Read More »
  • विचारों का टकराव

    अपने बच्चों के साथ व्यवहार करते हुए कई बार हमे बहुत इम्तहानो से गुजरना पडता... Read More »
  • फिर वही दिल ला दो

    क्या तुम ले आओगे मेरे शहर की वो सुनहली धूप। हल्की सी सरदी मे ,अपनी... Read More »

 

रचना साझा करें
  • 10
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    10
    Shares