Editor 2018-01-14T15:26:11+00:00

Editor

Posts

  • भूख..

      कितना तड़पाती है कितना ललचाती है पशुओं कि भाँति मुँह से लार टपकाती है... Read More »
  • अंधेर नगरी , चौपट राजा

    सोन चिड़िया कहलाने वाला मेरा देश भारत समय -समय पर आक्रमणकारियों के द्वारा लूटा जाता... Read More »
  • गाँव

    मेरा हो गया बीमार बाबू क्या करें ? अब नहीं पीपल में ठंडी ब्यार बाबू... Read More »
  • भागता शहर हूँ मैं

    झूठ का बाना पहने हर आदमी में भागता शहर हूँ मैं…… घर और कार की... Read More »
  • साथी

    साथी सफर में साथ रहो संग  मेरे देखो कहा तक चले सफर संग तेरे बेआबरू... Read More »
  • बेबसी

    ‘‘यार मुझे तो एक ही लगन है,चाहे कुछ भी हो जाये एक फिल्म जरुर बनाउॅंगा।... Read More »
  • आईना

    जब कोई नही समझता हमे तब वो समझता है हमे जब कोई निभाता हमारा साथ... Read More »
  • सपना

    आदमी जब अपने सपनों को तिलांजलि देकर किसी औरत के लिए बुनता है एक नया... Read More »
  • चमेली के फूल

    कितना साम्य है, उस चमेली और इस चमेली में… वह चमेली झाड़ी या बेल जाति... Read More »
  • शर्त

    आज सुबह से ही घर में सभी परेशान हैं कि इतनी जल्दी सब तैयारी कैसे... Read More »

 

रचना साझा करें
  • 10
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    10
    Shares