hindilekhak 2018-01-14T15:26:11+00:00

hindilekhak

Posts

  • दिल की रानी

    जिन वीर तुर्कों के प्रखर प्रताप से ईसाई-दुनिया काँप रही थी, उन्हीं का रक्त आज... Read More »
  • ज्योति

    विधवा हो जाने के बाद बूटी का स्वभाव बहुत कटु हो गया था। जब बहुत... Read More »
  • गुल्‍ली-डंडा

    हमारे अँग्रेजी दोस्त मानें या न मानें मैं तो यही कहूँगा कि गुल्ली-डंडा सब खेलों... Read More »
  • झाँकी

    कई दिनों से घर में कलह मचा हुआ था। माँ अलग मुँह फुलाये बैठी थी,... Read More »
  • जोडों का दर्द

    जोड़ों का दर्द क्या है???     . . . ये सिर्फ जोड़े ही जानते... Read More »
  • गुटखा खाने वाले ध्यान दें

    पति बहुत उदास सा घर लौटा तो पत्नी ने पूछ लिया। “क्या बात है? यह... Read More »
  • स्‍वामिनी

    शिवदास ने भंडारे की कुंजी अपनी बहू रामप्यारी के सामने फेंककर अपनी बूढ़ी आँखों में... Read More »
  • नशा

    ईश्वरी एक बड़े जमींदार का लड़का था और मैं एक गरीब क्लर्क का, जिसके पास... Read More »
  • घर जमाई

    हरिधन जेठ की दुपहरी में ऊख में पानी देकर आया और बाहर बैठा रहा। घर... Read More »
  • ठाकुर का कुआँ

    जोखू ने लोटा मुँह से लगाया तो पानी में सख्त बदबू आयी । गंगी से... Read More »