Jai Ram Rai 2018-02-25T19:25:20+00:00

Jai Ram Rai

Posts

  • राहबर।

    ठोकरों की मार उसपर बेरूखाई देख ली। रास्ते में रहबरों की रहनुमाई देख ली।। मुझको... Read More »
  • बुजुर्गों की दुआएँ।

    तरही गजल :-बुजुर्गों की दुआ…. अगर चेहरा खिला है और मैं हूँ। बुजुर्गों की दुआ... Read More »
  • शिकवा

    हमें ही हौसला नहीं होता। वर्ना दुनियां में क्या नहीं होता।। जब से दिल टूट... Read More »
  • कामयाबी।

    अपनी मन पसन्द गजल :- पढ़ने में कुछ भी खराबी नहीं है। मगर इल्म केवल... Read More »
  • आईना

    गिरहबन्द गजल :- आइना सबको मुहब्बत का दिखाया हमने। दिल पर चोट उसके बाद भी... Read More »
  • आसरा

    तरही गजल:- आप का जबसे दर दूसरा हो गया। आप के अस्क का आसरा हो... Read More »
  • उलझन 2

      उलझन मुझे सुलझाने का ईनाम मिल गया। उससे बड़ा उलझा हुआ अब काम मिल... Read More »
  • लगता है।

    “मन पसन्द गजल :- जो हमको सबाब लगता है। आप को क्यूँ खराब लगता है।।... Read More »
  • रौशनी

    तरही गजल :1 इनके यहाँ इफरात उजाला पसर गया। वो शख्स रोशनी की तमन्ना में... Read More »
  • जर्द पत्ते

    तरही गजल :- हवा तो सिर्फ एक बहाना था। जर्द पत्तों को गिर ही जाना... Read More »

 

Spread the love
  • 3.2K
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    3.2K
    Shares