Jai Ram Rai 2018-01-14T15:26:11+00:00

Jai Ram Rai

Posts

  • शबनम

    मैंने फूलों पे ये शबनम सजा के रक्खा है। तेज सूरज की किरन से बचा... Read More »
  • राजदार

    गैर को अपना कभी राजदार मत करना। हमारे प्यार को तुम शर्मसार मत करना।। तेरे... Read More »
  • सवाल

    उनवान ‘ सवाल’ एक तो हमारे साथ ये बवाल हो गया। उपर से हम्ही पर... Read More »
  • जमाना

    हम हंसे ही नहीं जमानों से। जी रहे हैं मगर बहानों से। ओले ही यहाँ... Read More »
  • जमाना

    तरही गजल। हम हंसे ही नहीं जमानों से। जी रहे हैं मगर बहानों से। अब... Read More »
  • मकान

    तरही गजल :- बेरहम तूफान हो गये। लोग बे मकान हो गये।। चीख औ पुकार... Read More »
  • एहसास

    जज्बात का मारा हूँ। एहसास तुम्हारा हूँ।। पतवार बनो तो मैं दरिया का किनारा हूँ।।... Read More »
  • सफर

    जिन्दगी में हमने जब सोचा कहाँ तक आ गये।  धुन्ध से निकले तो देखा अब... Read More »
  • खता

    इक खता बार बार मत करना। किसी पत्थर से प्यार मत करना।। जानकारी में किसी... Read More »
  • मुलाकात।

    बड़ा खुश मुझको दवाओं का दुकानदार मिला। नजर मे उसके अगर कोई भी बीमार मिला।।... Read More »

 

रचना साझा करें
  • 10
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    10
    Shares