लवलेश दत्त 2018-01-14T15:26:11+00:00

लवलेश दत्त

Posts

  • लाली

    आज मुन्नी ने खाना नहीं खाया। रो-रोकर घर भर दिया। रोती भी क्यों नहीं, इतने... Read More »
  • तूलिका

    “अरे…यह क्या कर रहे हो…छोड़ो न…” “कुछ नहीं…सच तो यह है कि तुम्हारी इन लटों... Read More »
  • चाँदी का गिलास

    “सर नमस्ते…।” “कौन?” “सर…मैं हूँ…अमित…अमित खन्ना…क्या मैं अन्दर आ सकता हूँ?” किवाड़ खोलकर अन्दर घुसते... Read More »
  • सौतन

    अल्मोड़ा का मार्ग बहुत सुन्दर और मनमोहक है। वहाँ के प्राकृतिक सौन्दर्य को निहारते हुए... Read More »
  • पत्थर

    “अभी और कितना चलना है?” “अभी तो चढ़ाई शुरू हुई है। अभी तो बहुत है।... Read More »
  • वीज़ा

    “हैलो…हाँ बेटा कैसे हो?” “मैं ठीक हूँ माँ…तुम कैसी हो?” “मैं भी ठीक हूँ बेटा…और... Read More »
  • उनकी टाँग

    सिंहासन बत्तीसी की कहानियाँ सुनीं थीं। टी. वी. पर धारावाहिक भी देखा और अनुमान भी... Read More »
  • श्यामा

    भादों की अष्टमी थी और उस दिन शायद रोहिणी नक्षत्र भी था। भयंकर काली घटाएँ... Read More »
  • युग प्रवर्तक : महात्मा गांधी

    (गांधी जयन्ती पर विशेष) भारतभूमि को रत्नगर्भा कहा जाता है। रत्नगर्भा होने का अभिप्राय केवल... Read More »
  • अपने हृदय का प्यार मुझे दो

    बस इतना उपहार मुझे दो। अपने हृदय का प्यार मुझे दो।।   ले लूँ तेरे... Read More »

 

रचना साझा करें
  • 10
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    10
    Shares