Manni 2018-02-25T19:25:20+00:00

Manni

Posts

  • संतुष्टि का भाव

    एक दिन अचानक मैं खुशी से भर गई | दरअसल,मुझे पता चला था कि मेरा... Read More »
  • लौट आई मुस्कान

    बात वर्ष १९९२ -१९९३ की है | मैं १०-११ वर्षों से घर से दूर रह... Read More »
  • ऊंट की दुर्गति

    किसी  जंगल में मदोत्कट नाम का एक शेर रहता था | चीता, कौआ और गीदड़... Read More »
  • आज का भरत

    बड़े भाई विकेश को नौकरी के सिलसिले में दो माह के लिए दूरस्थ शहर में जाना... Read More »
  • साजन! होली आई है!

    साजन! होली आई है! सुख से हँसना जी भर गाना मस्ती से मन को बहलाना... Read More »
  • पिता

    ले के आशीर्वाद पल आए पिता, एल्बम से फिर निकल आए पिता| टूटा सोफा चरमराया... Read More »
  • नीलवर्ण सियार

    किसी जंगल में चंडरव नामक एक सियार रहता था | एक दिन वह भूख से... Read More »
  • जुलाहे की चतुराई

    बहुत समय पहले किसी नगर में एक जुलाहा और एक बढ़ई रहते थे | उन... Read More »
  • ढोल की पोल

    एक बार गोमायु नाम का एक गीदड़ भूखा-प्यासा जंगल में घूम रहा था | घूमते-घूमते... Read More »
  • गीदड़ की तरकीब

    एक स्थान पर वट वृक्ष की जड़ में रहने वाले अपने एक प्रिय मित्र सियार... Read More »

 

Spread the love
  • 3.2K
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    3.2K
    Shares