Pooja Dalmia 2018-01-14T15:26:11+00:00

Pooja Dalmia

Posts

  • द्वंद

    अपने अंतर्मन के द्वंदों से झूझ रही हूँ मैं। आज स्वयं से एक प्रश्न पूछ... Read More »
  • माँ का प्यार

    माँ का प्यार जैसे भीषण गर्मी में चले शीतल बयार तपती धरती के लिए जैसे... Read More »
  • वादा

    मिले लाखों जमाने में,मगर दिल को वही भाए। सजाकर ख्व़ाब आँखों में,मिलन के गीत थे... Read More »
  • ज़रुरत

    कभी ये प्यार लिखती है,कभी तकरार लिखती है। ज़रुरत गर इसे लगती,है तो फटकार लिखती... Read More »
  • बच सका कौन है वक़्त की मार से

    जीत लेंगे दिलों को सदा प्यार से, कुछ किसी को मिला है न तकरार से।... Read More »