pratima das 2018-01-14T15:26:11+00:00

pratima das

Posts

  • हमशक्ल

    सुबह के 10.30 बज गये और मैडम अब कदम रख रहीं हैं ऑफिस के अन्दर।... Read More »
  • यथार्थ

    यथार्थ    (उपन्यास- अध्याय 2) …. सिर्फ पॉच मिनट में समीक्षा मकड़ी के जाल से पटे... Read More »
  • तीर्थ

    जीनवनदायनी-निर्मल जलधार, क्यों निधार प्राणहीन सी है? हे रक्तवाहिनी गंगे, तू क्यों दयनीय-दीन सी है?... Read More »
  • लैटर टू सेन्टा

    लैटर टू सेन्टा बारिश की छमछम रूक जाने तक समीर अपनी जगह पर ही खडा... Read More »
  • यथार्थ

    यथार्थ (अध्याय-1) एक ढ़लता दिन और बारिश के पानी से तर एक लहराती, पहाड़़ी सड़क।... Read More »

 

रचना साझा करें
  • 10
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    10
    Shares