sarla singh 2018-02-25T19:25:20+00:00

sarla singh

जन्मतिथि:
May 19, 2018
शिक्षा :
स्नातकोत्तर
विधाएँ जिसमें आप लिखते हैं :
ग़ज़ल, कविता, लघु-कथा, कहानी, गीत, लेख, परिचर्चा, आदि
पत्रिका, किताब, समाचार पत्र ( जिसमें रचनाएँ आपकी रचनाएँ प्रकाशित हुई ):
"जीवनपथ"काव्यसंग्रह आधुनिक पौराणिक प्रबंध कथाओं में पात्रों का चरित्र विकास (शोध ग्रंथ),काव्यरंगोली,हमराही,स्वप्न गंधा,काव्यकलश साझा काव्य संग्रह सृजन सागर साझा कहानीसंग्रह आदि .
संक्षिप्त परिचय:
शिक्षण कार्य टी.जी.टी.हिन्दी खाली समय में लेखन कार्य।
सम्मान :
साहित्यश्री सम्मान.अनुराधा प्रकाशन द्वारा। युग सुरभि सम्मान साहित्य सागर द्वारा । साहित्य रत्न सम्मान माण्डवी प्रकाशंन द्वारा ।

Posts

  • रेखा

    रेखा :संस्मरण दुनिया में कई तरह के लोग होते है,कुछ ऐसे की जिनके सान्निध्य में... Read More »
  • एक झूठ

    पत्नी को भी लगा कि राइटिंग तो उनके पति की नहीं है । फिर यह... Read More »
  • हे मानव

    हे मानव! किससे करे चालाकी रे मन सब तो नजर में उसके है , तू... Read More »
  • उलझन

    आज सुबह से ही नीलम परेशान थी ।हालांकि आज तो उसे खुश होना चाहिए था... Read More »
  • कर्मफल

    बह उठकर बच्चों के लिए खाना बनाना ,टिफिन रखना बच्चों को स्कूल भेजते हुए कम्पनी जाना... Read More »
  • रोटी

    जिनको आसानी से मिल जाती है उनके लिए तो रोटी का शायद मोल न हो... Read More »
  • पाती

    तेरी पाती बहुत रुलाती है, याद जब जब तुम्हारी आती है। नीर रुकते नही हैं... Read More »
  • दुनिया

    दुनिया …………… कैसी भूल भुलैया है दुनिया प्यारे , इस के खेल अजबनिराले हैं साथी... Read More »
  • कैसे सहते हो?

    कैसे सहते हो ? कोई कैसे सह सकता है, ऐसे नीच हत्यारों को । कैसे... Read More »
  • माँ

      मैं तेरी प्रतिबिंब हूँ , अक्श हूँ सुन माँ । तेरे ही कदमताल की... Read More »

 

Spread the love
  • 3.2K
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    3.2K
    Shares