sarvesh kumar marut 2018-01-14T15:26:11+00:00

sarvesh kumar marut

Posts

  • बेचैन अखियां

    छुपी हुई कोई बात मन में, बड़ी हलचलें मची हैं तन में। अंखियों में उफनाहट... Read More »
  • वो नज़र पैदा कर

    रह अडिग कर्त्तव्य पथ पर, वो नज़र पैदा कर। हर करम के तू प्रति, वो... Read More »

 

रचना साझा करें
  • 10
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    10
    Shares