Shalini Jain2018-02-25T19:25:20+00:00

Shalini Jain

जन्मतिथि:
November 30, -0001
शिक्षा :
स्नातक
विधाएँ जिसमें आप लिखते हैं :
कविता
पत्रिका, किताब, समाचार पत्र ( जिसमें रचनाएँ आपकी रचनाएँ प्रकाशित हुई ):
“दैनिक वर्तमान अंकुर” “शिक्षा वहिनी” “इबादत “ “दैनिक विजय दर्पण “ “परिचय टाइम्ज़ “ “जागरूक जनता “ “पत्रिका काव्य स्पंदन”

Posts

  • आईना मन का

    आईना एक तन का ,एक मन का जिसमे अपनी छवि निहारे तन का जिसमे आत्मा... Read More »
  • मन की बात

    कभी चंचल कोमल मन कभी गहन चिंतन में लिप्त कभी अनंत गहराइओ में खोया कभी... Read More »
  • भूख

    भूख तो सबको लगती है मगर वो भूख जो खाना खा के तृप्त हो जाये... Read More »
  • जिंदगी

    ख़्वाबों का धूमिल हो जाना फिर शिद्दतों के बाद उन्हें पाना जिन्दगी इसी को कहते... Read More »
  • अस्तित्व

    ना मोम की गुड़िया हूँ ना ही खिलौना मिट्टी का अस्तित्व है मेरा भी क्यूँ... Read More »
  • स्त्री

    स्त्री। . . . . . बेटी माँ पत्नी और बहू हर रूप में जानी... Read More »
  • कश्ती

    कश्ती परिवार एक कश्ती उस पर सवार सब माँझी है रिश्तो का ताना बाना है... Read More »
  • राजनीति की छाप

    खोता जा रहा विश्वास आस नहीं किसी से कौन खेयेगा देश की नाव ? प्रशनचिन्ह... Read More »
  • गौरिया

    गौरिया बोली हमे बचा लो खतरे में है अस्तित्व हमारा प्रगति रथ पर हो चले... Read More »
  • खनक

    खनक जो मन को भाये जो नींदे चुराए श्रृंगार का भी एक रूप प्रेम की... Read More »

 

Spread the love
  • 3.2K
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    3.2K
    Shares

हिन्दी लेखक डॉट कॉम

सोशल मीडिया से जुड़ें ... 
close-link