Vandna Pandey 2018-01-14T15:26:11+00:00

Vandna Pandey

Posts

  • लोहा

    फिर उठा हथौड़ा वार करो, काले लोहे को लाल करो … तब मनचाहा आकार करो,... Read More »
  • सियासी दंगे

    सियासत में नहीं फंसना, जुबां दो धारियाँ होंगी… बहुत सोची, बहुत ओछी, उनकी तैयारियां होंगी…... Read More »
  • एक खत प्रिय के नाम

    अक्षर-अक्षर,  खत में लिखकर, खत को लेकर, घूमूं फिर… अक्षर-अक्षर, तुम्हे पिरोकर, अक्षर – अक्षर,... Read More »
  • आँसू

    वेदना हृदय की बोलो, कितनी बार जला दी जाए,             ... Read More »