krishna kumar shukla vidyarthi 2018-01-14T15:26:11+00:00

krishna kumar shukla vidyarthi

Posts

  • बातें होती हैं और होती रहेंगी

    नमस्कार , बातें होती हैं और होती रहेंगी , मुलाकाते भी होती रहेंगी ,देश की... Read More »
  • दो बातें

    नमस्कार , दो बातें तो तय हैं , पहली बात भारत के लोकतंत्र के इतिहास... Read More »
  • सिगरेट

    सिगरेट पुरानी रचना सिगरेट का दूसरा हिस्सा कुछ असआर नए , मेरी असास का पत्थर... Read More »
  • व्यंग

    #‎vidyarthi_uwaach‬ मुझे लगता है तथाकथित जेहादियों को गुमराह करने के काम की शुरुवात अकबर इलाहाबादी... Read More »
  • कुछ चन्द अशआर

    कुछ चन्द अशआर :; बस इतनी सी भी सर बुलंदी अता कर दे मेरे मौला,... Read More »
  • सिग्रेट

    सिग्रेट की दुनिया अपनी अलग है अलग है औरों से बिलकुल अलग है , अरे... Read More »

 

रचना साझा करें
  • 10
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    10
    Shares