गुब्बारे वाला

By | 2018-01-16T14:27:23+00:00 January 16th, 2018|कविता|

गुब्बारे ले लो गुब्बारे वाला नीले पीले हरे गुलाबी हर रंग के गुब्बारे लाया चिया, भूमि, निखिल, कन्हैया आओ [...]

संघर्ष

By | 2018-01-15T14:23:56+00:00 January 15th, 2018|कविता|

संघर्ष से भरी ये दुनिया चक्रव्यूह में फंसती गयी ऐसा जाल बुना रब ने जीवन चक्र में जा पहुंची [...]

राजदार

By | 2018-01-15T08:57:58+00:00 January 14th, 2018|गीत-ग़ज़ल|

गैर को अपना कभी राजदार मत करना। हमारे प्यार को तुम शर्मसार मत करना।। तेरे लिबास औ लहजे की [...]

प्रेम

By | 2018-01-12T20:05:35+00:00 January 12th, 2018|कविता|

यूं छोड़ चले जाना तुम्हारा कितना दर्द देता है दिल को दिल ही जाने.... किस तरह दर्द की परतें [...]

व्याकुलता

By | 2018-01-12T12:45:38+00:00 January 12th, 2018|कविता|

औचित्य क्या मेरे जीवन का नही समझ में आया है इतराते फिरते चकाचौंध में पाश्चात्य रंग ने भरमाया है [...]

प्रेम

By | 2018-01-11T20:48:33+00:00 January 11th, 2018|कविता|

प्रेम जब अपने चरम पर आकर ठहरता है, तो इंसान बदला- बदला- सा नजर आता है॥ अंतस का कोना- [...]

इच्छाएँ

By | 2018-01-11T16:08:19+00:00 January 11th, 2018|कविता|

मन की इच्छाएं तंग लंबी गलियां-सी की भांति असीमित अनन्त-सी एक गली से दूसरी, दूसरी से तीसरी, फिर तीसरी [...]

संतान सुख

By | 2018-01-10T19:34:34+00:00 January 10th, 2018|लघुकथा|

छुट्टियों के आज आखिर दिन बहु बेटा दोनो बाजार गये थे मैंने जिज्ञासा वस अपनी पत्नी से पूछा " [...]

औरत

By | 2018-01-09T22:53:33+00:00 January 9th, 2018|अन्य|

ओहदा बदलते ही औरत के बदल जाते है स्वरूप मां-------सास बेटी------बहु बहन-----ननद भाभी----जेठानी / देवरानी क्यों खून कर देती [...]

Load More Posts