फ़िर वह लौट ना सका

मुझे अपनी बाहों में खिलाने वाला मेरा हौसला बढ़ाने वाला सूरज की तरह तपना सिखाने वाला अपने कन्धों पर चढ़ाकर …