आसमान

Home » आसमान

पिंजरे में मैना बंधन में नारी

By | 2017-12-24T20:41:04+00:00 December 24th, 2017|Categories: कविता|Tags: , , |

एक मैना पिंजरे की कैदी अतृप्त उसकी इच्छाएं आंख से आंसू टप टप गिरते पलकों में अभिलाषाएं पंजों में [...]