स्वप्न -एक गीत

हे स्वप्न तुम्ही मेरे संसार जीवन के अनुपम उपहार होता प्रतिपल आकुल अन्तर जीवन तो है सत्य भयंकर प्राणों की …