कल

Home » कल

एक नन्हा दीपक

By | 2018-02-15T23:36:01+00:00 February 15th, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |

इन काली काली रातों में,एक नन्हा दीपक जलता है। मगर अफ़सोस वो बेजुबाँ,क्यों बिखरा बिखरा रहता है,क्यों उखड़ा उखड़ा [...]