हमसे पहचानने में भूल हुई

तन मन तुझको सौंप दिया था, भगवान बना कर रखा था,
पर तूने तो उस मनमंदिर में, शैतान बसा कर रखा था