अपने सितारे हैं

मिलेंगे ये कहां जाकर नदी के जो किनारे हैं हमारे जैसे दोनों हैं फ़क़त किस्मत के मारे हैं फ़क़त ख़्वाबों …