भिखारी कौन

ट्रैन आने वाली है। राम्या सीधे टिकट खिड़की पर पहुँचती है। भैया जयपुर का टिकट कितने का है। दो सौ पांच सामने से आवाज आई। एक मिनिट राम्या ये कहकर अपने बैग से अपना पर्स निकालने को बैग खोलती है। लेकिन पर्स वहाँ नहीं मिलता। शायद कपड़ो के नीचे दब गया होगा, राम्या ने अपने मन में सोचते हुए वहाँ टटोला। जब वहाँ भी नही मिला तो उसने पूरा बैग छान मारा।अब उसके होश फाख्ता हो गए। पर्स चोरी हो गया था।

Continue Reading

प्रकृति में खुशी महसूस करें

आप और हम खुश क्यों नहीं रह पाते, प्रकृति तो हर रोज़ तुम्हें खुश करने के नाजाने कितने प्रयास करती है। इसे महसूस करने के लिए हमें स्वयं को भी प्रयास करना होगा,…

Continue Reading

बच्चें

वो आये लेकर किलकारी खुशिया बरसी ऐसे जैसे बरखा जारी, सब के चेहरे देख दमक गये भरने बाहो मे सब उन्हें धमक गये, कहते हे बच्चे होते घर की शान हे होते बच्चे…

Continue Reading

मृगतृष्णा

मृगतृष्णा छोटे -छोटे पाँव ले जन्मा ले छोटे -छोटे हाथ ।। छोटे-छोटे कदमों से ही आंगन था लेता माप ।। निर्भरता लगी चुभने फिर रोक-टोक नहीं जंचती थी। चंचल मन की मर्जी थी…

Continue Reading

उलझन

आज सुबह से ही नीलम परेशान थी ।हालांकि आज तो उसे खुश होना चाहिए था क्योंकि आज ही उसने नौकरी ज्वाइन किया था। लंच में एक शिक्षिका ने अलग ले जाकर उससे पूछ…

Continue Reading

कश्ती

कश्ती परिवार एक कश्ती उस पर सवार सब माँझी है रिश्तो का ताना बाना है जिंदगी  खुशी किनारा तो गम लहरें है जैसे समुद्र या नदी जब होती है शांत तो सब स्थिर…

Continue Reading

ऐसा दिल चाहिए

ऐसा दिल चाहिए ज़िन्दगी में खुशी मिले तो क्या चाहिए खुशी बांटने वाला हमदम मिले तो क्या चाहिए हों बहुत प्यार करने वाले तो क्या चाहिए ये दिन प्रतिदिन बढ़ कर मिले तो…

Continue Reading
Close Menu